aapkikhabar aapkikhabar

जानिए राशि/लग्नानुसार कौनसा रुद्राक्ष करें धारण



aapkikhabar
+3

 


 


मेष राशि: आपको सौभाग्य वृद्धि हेतु एक मुखी, तीन मुखी अथवा पांच मुखी रुद्राक्ष प्राण-प्रतिष्ठित एवं सिद्ध किया हुआ धारण करना चाहिए। नेता, मंत्री, प्रशासनिक अधिकारी, दवा विक्रेता, प्रापट्री डीलर, होटल मालिकों को एक मुखी रुद्राक्ष विशेष रूप से धारण करना चाहिए। मेष राशि का स्‍वामी मंगल होता है और मंगल साहस और वीरता का कारक है। साथ ही मंगल के प्रभाव में जातक अडियल और गुस्‍सैल भी बन जाता है। मेष राशि के जातकों को तीन मुखी रुद्राक्ष धारण करने से लाभ होगा।यह रुद्राक्ष आग और गति का प्रतिनिधित्व करता है। यह रुद्राक्ष मेष और वृश्चिक राशि के लिए बेहद लाभकारी है। आप मंगलदोष दूर करने के लिए भी इसे पहन सकते है।



वृषभ राशि: आपको सौभाग्य वृद्धि हेतु चार मुखी, छः मुखी अथवा चैदह मुखी रुद्राक्ष प्राण प्रतिष्ठित एवं सिद्ध किया हुआ धारण करना चाहिए। वृषभ लग्न के जातकों को चार मुखी रुद्राक्ष विशेष रूप से धारण करना चाहिए। अधिवक्ता, लेखाकार/ लेखाधिकारी, पुलिस, सेना, डाॅक्टर आदि को कैरियर में सफलता के लिए प्राण-प्रतिष्ठित एवं सिद्ध चार मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। अपने लक्ष्‍य को पाने के लिए वृषभ राशि के लोग बहुत मेहनत करते हैं। वृषभ राशि का स्‍वामी शुक्र देव हैं और ये भौतिक सुख और ऐश्‍वर्य प्रदान करते हैं। इस राशि के लोगों को 6 मुखी और दस मुखी रुद्राक्ष धारण करने से लाभ होता है।इस रुद्राक्ष को भगवान कार्तिकेय के रूप में माना जाता है। यह आपको वित्तीय और व्यावसायिक लाभ प्रदान कर सकता है। शुक्र ग्रह की दशा को सुधारने के लिए इसे पहना जा सकता है। तुला और वृषभ राशि के लिए यह बेहद लाभदायक है।


मिथुन राशि: आपको सौभाग्य वृद्धि हेतु चार मुखी, पांच मुखी और तेरह मुखी रुद्राक्ष प्राण प्रतिष्ठित एवं सिद्ध किया हुआ धारण करना चाहिए। मिथुन लग्न वाले जातक को छः मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। शिक्षा क्षेत्र से जुड़े प्रोफेसर, शिक्षक आदि इसे धारण कर सफलता प्राप्त कर सकते हैं। चार मुखी रुद्राक्ष को स्वंय ब्रह्मा जी का स्वरूप माना गया है। भगवान ब्रह्मा सर्व वेदों के ज्ञाता है उसी तरह इस रुद्राक्ष को धारण करने वाले जातक के जीवन में भी शिक्षा प्राप्ति के सभी राह खुल जाते हैं।मिथुन राशि का स्‍वामी बुध है और बुध को बुद्धि का कारक माना जाता है। मिथुन राशि के लोग परिवर्तन और गतिशील स्‍वभाव के होते हैं। मिथुन राशि के जातकों को सफलता और धन की प्राप्‍ति के लिए 4 मुखी और 11 मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।


कर्क: आपको सौभाग्य वृद्धि हेतु तीन मुखी, पांच मुखी अथवा गौरी शंकर रुद्राक्ष प्राण-प्रतिष्ठित एवं सिद्ध किया हुआ धारण करना चाहिए। कर्क लग्न वाले दो मुखी, तीन मुखी व पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्य धारण करें। चिकित्सीय क्षेत्र से जुड़े व्यक्ति जैसे नर्स, केमिस्ट, कंपाउडर, दवा विक्रेताओं के लिए यह विशेष लाभकारी है। कर्क राशि का स्‍वामी चंद्रमा होता है जोकि मन का कारक है। चंद्रमा मन को स्थिरता प्रदान करता है। ये लोग अपने कार्यों को पूरी निपुणता से करते हैं और इसीलिए इन्‍हें उसमें सफलता भी मिलती है। कर्क राशि के लोगों को 4 मुखी और गौरी शंकर रुद्राक्ष धारण करने से लाभ होगा। इस रुद्राक्ष को अर्धनारीश्वर के नाम से जाना जाता है। कर्क राशि के लोगों के लिए यह रुद्राक्ष धारण करना लाभदायक रहता है। अगर आप अपने जीवन में वैवाहिक स्थिति से संबंधित समस्याओं का सामना कर रहे है या फिर आपकी कुंडली में चंद्र ग्रह कमजोर है तो आपको यह रुद्राक्ष पहनना चाहिए।


सिंह राशि: सिंह राशि का स्‍वामी सूर्य देव हैं। सूर्य को सफलता का कारक माना जाता है और जिस पर सूर्य देव की कृपा पड़ गई उसे जीवन में कभी भी असफलता का सामना नहीं करना पड़ता है। सिंह राशि के जातकों को 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए।
आपको सौभाग्य वृद्धि हेतु एक मुखी, तीन मुखी और पांच मुखी रुद्राक्ष प्राण प्रतिष्ठित एवं सिद्ध किया हुआ धारण करना चाहिए। सिंह लग्न वाले जातक को आठ मुखी रुद्राक्ष धारण करना चाहिए। सी. ए. करने वाले, सिविल इंजीनियर, कंप्यूटर का काम करने वाले आठ मुखी रुद्राक्ष धारण करें।


 


 


Astrology:जानिए क्यों और कैसे करें राशि के अनुसार रुद्राक्ष धारण


 


 

पिछली स्लाइड     अगली स्लाइड


सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के