aapkikhabar aapkikhabar

तीस हजारी कोर्ट मामले में गोंडा के अधिवसक्ताओं ने किया प्रदर्शन



तीस हजारी कोर्ट  मामले में गोंडा के अधिवसक्ताओं ने किया प्रदर्शन

गोंडा अधिवक्ता प्रदर्शन

तीस हजारी कोर्ट में हुए अधिवक्ताओं पर हमला व पुलिस की गोलियों से घायल अधिवक्ताओं के समर्थन में उतरे गोण्डा के अधिवक्ता



State Desk -बार काउंसिल के अध्यक्ष मनन मिश्रा के आवाहन पर गोण्डा के अधिवक्ताओं ने निकाला प्रदर्शन मार्च और जिला अधिकारी के माध्यम से केंद्र सरकार को सौपा ज्ञापन।


बतातो चलें कि दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट परिसर में पार्किंग को लेकर अधिवक्ता और पुलिस के बीच हुई मारपीट में घायल अधिवक्ताओं के समर्थन में उतरे बार काउंसिल के अध्यक्ष मनन मिश्रा के आवाहन पर अधिवक्ताओं ने देश के कोने कोने की अदालतों में किया गया प्रदर्शन ।


इसी क्रम में गोंडा जनपद की सिविल बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विवेक मणि श्रीवास्तव, जिला बार एसोसिएशन अध्यक्ष रवि चंद्र त्रिपाठी, फौजदारी एसोसिएशन के अध्यक्ष रवि प्रकाश पाण्डेय, महामंत्री महेश सिंह के साथ ही महामंत्री राम बुझारत द्विवेदी के अगुवाई में हजारों अधिवक्ताओं ने जिला बार एसोसिएशन से प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए हाथ में झंडा ,बैनर, पोस्टर लेकर किया पैदल मार्च जो कलेक्ट्रेट ,दीवानी परिसर ,अंबेडकर चौराहा होते हुए पहुंचे जिलाधिकारी के कार्यालय वहां पहुंचते ही आक्रोशित अधिवक्ताओं ने जिला प्रशासन मुर्दाबाद ,जिला अधिकारी होश मे आओ,खूब लगाए नारे और अपने प्रमुख मांगों में अधिवक्ता सुरक्षा अधिनियम लागू हो, घायल अधिवक्ताओं को सहायता राशि दी जाए, पुलिस कर्मियों को दंडित किया जाए की मांगे प्रमुख रही ।
पूरे कार्यक्रम के दौरान सिविल बार एसोसिएशन के वरिष्ठ अधिवक्ता समीम अतहर, कीर्ति श्रीवास्तव, संजय श्रीवास्तव, उपेंद्र मिश्रा, ज्ञानेंद्र द्विवेदी ,अशोक मिश्रा ,अभय श्रीवास्तव, संतोष श्रीवास्तव ,बृजेश तिवारी, नेता जीवन लाल शुक्ला, मदन गोपाल श्रीवास्तव लल्ला बाबू ,बिंदेश्वरी दुबे ,संगम लाल सिंह, संगम लाल दुबे, माधवराज,रामफेर, राकेश श्रीवास्तव, उमाकांत ,ज्ञान चंद श्रीवास्तव, विनोद कुमार श्रीवास्तव ,बृजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ गोपाल, लक्ष्मी कांत तिवारी ,दिनेश तिवारी, अखिलेश तिवारी, अवधेश श्रीवास्तव, जगत नारायण तिवारी, समेत हजारों की संख्या में अधिवक्ता मौजूद रहे !


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के