aapkikhabar aapkikhabar

गैंग बनाकर करते थे डीजल की चोरी ,पुलिस ने दबोच लिया



गैंग बनाकर करते थे डीजल की चोरी ,पुलिस ने दबोच लिया

गिरफ्त में जालसाज

 


डीजल चोरी करने वाले गैंग का खुलासा,19 गिरफ्तार...


कानपुर देहात,उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में पुलिस के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है डीजल चोरी करने वाला एक बड़ा गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ गया है.


जानकारी के अनुसार कानपुर देहात के एसपी अनुराग वत्स द्वारा जनपद कानपुर देहात के निर्देशन मे जनपद में अपराध व अपराधियों के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के अन्तर्गत अनूप कुमार अपर पुलिस अघीक्षक कानपुर देहात के पर्यवेक्षण मे जनपद की स्वाट टीम, सर्विलान्स टीम व थाना अकबरपुर पुलिस की सयुक्त टीम द्वारा विगत कई वर्षों से हाईवे पर चल रहे संगठित गैंग जो वाहनों से डीजल चोरी जैसी घटनाओं को अन्जाम देते है।


पुलिस टीम ने गिरोह का पर्दाफाश कर 19 लोगों की गिरफ्तारी की है और 17 ड्रमों व 02 कट्टी मे करीब 2060 ली0 चोरी के डीजल व डीजल चोरी मे प्रयुक्त दो ट्रक, एक डीसीएम व एक स्विफ्ट डिजायर गाडी व डीजल चोरी करने के उपकरण व दो सीएमपी मय कारतूस व चार चाकू के ग्राम सहावापुर से गिरफ्तार किया गया।


इस गैंग द्वारा प्रदेश के कई जनपदों मे डीजल चोरी की घटनाओं को अन्जाम दिया गया है।इस गैंग द्वारा अब तक करोडो रुपये का डीजल चोरी कर बेंचा जा चुका है।18 नवंबर को ग्राम छतेनी से डीजल चोरी करते समय जानकारी होने पर पुलिस पार्टी द्वारा पीछा करने पर पीआरबी की गाडी पर ट्रक से टक्कर मार कर पीआरबी मे डियूटी पर तैनात पुलिस कर्मचारीगणों को जान से मारने का प्रयास भी किया गया था।इस गैंग के सरगना अभियुक्त दीपक कुमार यादव पुत्र अभिमन्यु यादव ग्राम सहावापुर थाना अकबरपुर कानपुर देहात द्वारा प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर, बुलन्दशहर, मेरठ के अपराधीयों के साथ वाहनों से टीमे बनाकर रैकी कर ट्रकों के आस पास अपनी गाडियां लगाकर अवैध शस्त्रों से लैश होकर डीजल की चोरी की जाती है।


अगर किसी के द्वारा चोरी का विरोध किया जाता है। तो उसको शारीरिक क्षति भी पहुंचायी जाती है पूर्व मे इस गैंग के सदस्यों द्वारा डीजल चोरी कर भागने पर पुलिस की गाडी द्वारा पीछा करने पर जान से मारने की नियत से ट्रक को पुलिस की गाडी पर चडा दिया गया था तथा पुलिस वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था।


गिरफ्तार किये गये अभियुक्तों के मोबाइल फोन तथा पूंछतांछ से इस गैंग में स्पष्ट हुआ है कि इस गैंग में और भी अपराधी शामिल होने की सम्बभावना है जो प्रदेश के अन्य जनपदों में सक्रिय हैं इन अभियुक्तों से प्राप्त मोबाइल नं0 को सम्बन्धित जनपदों के साथ साझा किया जायेगा जिससे गैंग के शेष अन्य सदस्यों के विरूद्ध कार्यवाही की जा सके।


-



सम्बंधित खबरें



खबरें स्लाइड्स में


खबरें ज़रा हट के