अदाणी और पोस्को ने स्टील मिल के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए

अदाणी और पोस्को ने स्टील मिल के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए
अदाणी और पोस्को ने स्टील मिल के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए नई दिल्ली, 13 जनवरी (आईएएनएस)। अदाणी समूह ने कारोबार की संभावनाएं तलाशने के लिए स्टील कंपनी पोस्को के साथ एक समझौता किया है, जिसमें 5 अरब डॉलर के अनुमानित निवेश के साथ गुजरात के मुंद्रा में एक इंटिग्रेटेड स्टील प्लांट की स्थापना शामिल है।

गौतम अदाणी की अगुआई वाले अदाणी समूह ने गुजरात के मुंद्रा में हरित, पर्यावरण के अनुकूल एकीकृत स्टील मिल की स्थापना के साथ-साथ अन्य व्यवसायों सहित व्यापार सहयोग के अवसरों को तलाशने के लिए पोस्को के साथ समझौता किया है।

कंपनी ने कहा है कि पोस्को के साथ समझौते के बाद कंपनी को कार्बन का उत्सर्जन कम करने में मदद मिलने की उम्मीद है। पोस्को और अदाणी के बीच हस्ताक्षरित गैर-बाध्यकारी समझौता ज्ञापन कार्बन कटौती आवश्यकताओं के जवाब में अक्षय ऊर्जा, हाइड्रोजन और रसद जैसे विभिन्न उद्योगों में समूह व्यापार स्तर पर आगे सहयोग करने का इरादा रखता है।

अदाणी ग्रुप ने एक बयान में कहा है कि पोस्को और अदाणी ग्रुप मिलकर रिन्यूएबल एनर्जी के संसाधनों और ग्रीन हाइड्रोजन का सही उपयोग करने की रणनीति पर काम करेंगे।

दोनों पक्ष सहयोग करने और प्रत्येक कंपनी की तकनीकी, वित्तीय और परिचालन शक्तियों का लाभ उठाने के लिए विभिन्न विकल्पों पर गौर कर रहे हैं। इस सहयोग में पोस्को की अत्याधुनिक तकनीक और अत्याधुनिक आरएंडडी क्षमता के आधार पर मुंद्रा, गुजरात में एक संयुक्त एकीकृत स्टील मिल का मूल्यांकन शामिल है। पोस्को और अदाणी, दोनों भागीदारों की स्थिरता और ऊर्जा दक्षता के लिए ईएसजी प्रतिबद्धताओं के अनुरूप अक्षय ऊर्जा संसाधनों और हरित हाइड्रोजन का उपयोग करने का इरादा रखते हैं।

पोस्को के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) जिओंग-वू शोई ने कहा, पोस्को और अदाणी में स्टील और एनवायरमेंट फ्रेंडली बिजनेस (पर्यावरण के अनुकूल व्यवसाय) में पोस्को की स्टील मेकिंग में अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी और एनर्जी एवं इंफ्रास्ट्रक्च र में अदाणी की विशेषज्ञता के साथ व्यापक तालमेल की संभावनाएं हैं। मुझे उम्मीद है कि यह भागीदारी भारत और दक्षिण कोरिया के बीच एक अच्छा और टिकाऊ कारोबारी सहयोग मॉडल बनेगी।

1988 में स्थापित अदाणी समूह रसद (बंदरगाह, हवाईअड्डे, शिपिंग और रेल), संसाधन, बिजली उत्पादन और वितरण, अक्षय ऊर्जा, गैस और बुनियादी ढांचे में रुचि रखने वाले भारत में विविध व्यवसायों का सबसे बड़ा और सबसे तेजी से बढ़ता पोर्टफोलियो है। अदाणी ने हाल ही में दुनिया की सबसे बड़ी अक्षय ऊर्जा कंपनी बनने और भविष्य में हरित हाइड्रोजन का उत्पादन करने के लिए बड़े पैमाने पर निवेश योजना की घोषणा की है।

अदाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अदाणी ने कहा, हमें स्टील उत्पादन और कार्बन कटौती में दुनिया के सबसे कुशल और उन्नत स्टील प्रोड्यूसर पोस्को के साथ साझेदारी की घोषणा करते हुए बहुत खुशी हो रही है। यह साझेदारी भारत के विनिर्माण उद्योग और भारत सरकार द्वारा संचालित आत्मनिर्भर भारत योजना के विकास में योगदान देगी। यह हरित व्यवसायों में भारत की स्थिति को मजबूत करने में भी मदद करेगी।

दक्षिण कोरिया की पोस्को कंपनी के पास पोस्को महाराष्ट्र नाम की एक यूनिट है, जिसमें 18 लाख टन की क्षमता वाला कोल्ड रोल और गैल्वनाइज्ड यूनिट शामिल शामिल है। इसके साथ ही पुणे, दिल्ली, चेन्नई और अहमदाबाद में कंपनी के चार प्रोसेसिंग प्लांट स्थित हैं। यह आशा की गई है कि पोस्को और अदाणी के बीच यह व्यापारिक सहयोग भारतीय इस्पात उद्योग में प्रमुख भागीदारी तालमेल लाएगा।

पोस्को और अदाणी ने इस समझौते के लिए सरकार से समर्थन और सहयोग के लिए गुजरात सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए हैं।

--आईएएनएस

एकेके/एसजीके

Share this story