आईएसएस के संचालन को 2030 तक बढ़ाने पर बातचीत कर रहे रूस और अमेरिका : रिपोर्ट

आईएसएस के संचालन को 2030 तक बढ़ाने पर बातचीत कर रहे रूस और अमेरिका : रिपोर्ट
आईएसएस के संचालन को 2030 तक बढ़ाने पर बातचीत कर रहे रूस और अमेरिका : रिपोर्ट मॉस्को, 13 जनवरी (आईएएनएस)। रूस की रोस्कोस्मोस स्टेट स्पेस एजेंसी और नासा इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) के संचालन को 2030 तक बढ़ाने को लेकर बातचीत कर रहे हैं।

रोस्कोस्मोस के सीईओ दिमित्री रोगोजिन ने गुरुवार को यह जानकारी दी।

समाचार एजेंसी तास ने रोस्कोस्मोस के सीईओ के हवाले से कहा, आईएसएस के संचालन को 2030 तक बढ़ाने पर नासा के साथ बातचीत चल रही है।

रोगोजिन ने यह भी कहा कि रूस द्वारा किए गए 2024 तक जरिया मॉड्यूल के लिए इंजीनियरिंग समर्थन पर अमेरिका और रूस एक समझौते पर पहुंच गए हैं।

31 दिसंबर को, जो बाइडेन प्रशासन ने आईएसएस संचालन को 2030 तक विस्तारित करने के लिए प्रतिबद्धता जताई थी।

नासा के प्रशासक बिल नेल्सन ने एक बयान में कहा था, अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन शांतिपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक सहयोग का एक प्रकाशस्तंभ है और इसने 20 से अधिक वर्षों से मानवता को लाभ पहुंचाने के लिए बड़े स्तर पर वैज्ञानिक, शैक्षिक और तकनीकी विकास सुनिश्चित किया है।

अंतरिक्ष यात्री 20 से अधिक वर्षों से पृथ्वी की सतह से लगभग 250 मील की दूरी पर आईएसएस की परिक्रमा करते हुए रहते हैं और काम करते हैं।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने एक ऑडिट रिपोर्ट में कहा है, आईएसएस की सालाना लागत लगभग 3 अरब डॉलर है, जो नासा के वार्षिक मानव अंतरिक्ष उड़ान बजट का लगभग एक तिहाई है। वर्तमान योजनाएं 2024 में स्टेशन की सेवानिवृत्ति को लेकर हैं, साथ ही 2030 तक विस्तार की संभावना है।

सीएनईटी की रिपोर्ट के अनुसार, नासा पहले से ही आईएसएस से वाणिज्यिक अंतरिक्ष स्टेशनों और कम पृथ्वी की कक्षा में अन्य निजी प्लेटफार्मों में ट्रांजिशन की योजना बना रहा है।

इससे पहले दिसंबर में नासा ने अंतरिक्ष स्टेशनों और अंतरिक्ष में अन्य वाणिज्यिक स्थलों के लिए डिजाइन विकसित करने के लिए तीन कंपनियों - ब्लू ओरिजिन, नैनोरैक्स और नॉथ्रॉप ग्रुम्मन को 40 करोड़ डॉलर से अधिक की धनराशि सौंपी। नासा ने कहा है कि आईएसएस से दूर ट्रांजिशन उसे पैसे बचाने और चंद्रमा और मंगल पर अपने आर्टेमिस मिशन पर ध्यान केंद्रित करने की अनुमति देगा।

--आईएएनएस

एकेके/एसजीके

Share this story