पिछले कुछ महीनों में करीब 350 विमानों का निरीक्षण किया गया: उड्डयन मंत्रालय

पिछले कुछ महीनों में करीब 350 विमानों का निरीक्षण किया गया: उड्डयन मंत्रालय
पिछले कुछ महीनों में करीब 350 विमानों का निरीक्षण किया गया: उड्डयन मंत्रालय नई दिल्ली, 1 अगस्त (आईएएनएस)। विमानन नियामक डीजीसीए ने उड़ान संचालन की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पिछले कुछ महीनों में स्पॉट चेक के दो विशेष अभियान चलाए हैं। केंद्र ने सोमवार को राज्यसभा में यह जानकारी दी।

2 मई से 6 जून तक स्पॉट चेक का एक विशेष अभियान चलाया गया। इस अवधि के दौरान, कुल 300 विमानों का निरीक्षण किया गया, जिसमें स्पाइसजेट बेड़े के 62 परिचालन विमान शामिल थे।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सदन में एक लिखित उत्तर में कहा, मौके की जांच से निष्कर्ष सामने आए, जिन्हें एयरलाइंस द्वारा ठीक किया गया। स्पाइसजेट के सभी परिचालन विमानों पर 9 से 13 जुलाई तक स्पॉट चेक की एक और श्रृंखला की गई, जिसमें 48 विमानों पर 53 स्पॉट चेक किए गए, जिससे कोई महत्वपूर्ण खोज या सुरक्षा उल्लंघन नहीं मिला।

हालांकि, यह पुष्टि करने के बाद कि सभी दोषों और खराबी को ठीक कर दिया गया है, एक सुरक्षा उपाय के रूप में, डीजीसीए ने स्पाइसजेट को कुछ निश्चित विमान (10) को संचालन के लिए जारी करने का आदेश दिया।

मंत्रालय ने कहा कि डीजीसीए ने 27 जुलाई, 2022 को स्पाइसजेट को एक अंतरिम आदेश जारी किया था, जिसमें सुरक्षित और विश्वसनीय हवाई परिवहन सेवा के निरंतर निर्वाह के लिए, स्पाइसजेट के प्रस्थान की संख्या को आठ सप्ताह की अवधि के लिए ग्रीष्मकालीन अनुसूची 2022 के तहत स्वीकृत प्रस्थानों की संख्या के 50 प्रतिशत तक सीमित कर दिया गया है।

मंत्रालय ने कहा कि डीजीसीए प्रमाणित ऑपरेटरों की निगरानी और उनके रिकॉर्ड के रखरखाव के दौरान पाई गई कमियों पर समय पर सुधारात्मक कार्रवाई सुनिश्चित करता है। मंत्रालय के अनुसार, कोई चूक नहीं हुई है और इसलिए अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई लंबित नहीं है। सरकार ने शेड्यूूल्ड एयरलाइनों को संचालन की सुरक्षा को अत्यधिक महत्व देने के लिए संवेदनशील बनाया है और विभिन्न कदम उठाए हैं।

इसके अलावा यह भी बताया गया कि शेड्यूूल्ड एयरलाइनों को सभी बेस स्टेशनों और ट्रांजिट स्टेशनों पर अपनी इंजीनियरिंग संबंधी क्षमताओं को बढ़ाने के लिए कहा गया है। डीजीसीए द्वारा विशेष ऑडिट और स्पॉट चेक का आदेश दिया गया है और एयरलाइनों को हवाई संचालन की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उचित शमन कार्रवाई और अधिक आंतरिक निगरानी करने के लिए कहा गया है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story