फिक्की ने 27-28 सितंबर को 13वें ग्लोबल स्किल्स सम्मेलन 2022 का किया आयोजन

फिक्की ने 27-28 सितंबर को 13वें ग्लोबल स्किल्स सम्मेलन 2022 का किया आयोजन
फिक्की ने 27-28 सितंबर को 13वें ग्लोबल स्किल्स सम्मेलन 2022 का किया आयोजन नई दिल्ली, 22 सितंबर (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी के कारण दो साल की अनुपस्थिति के बाद, शिखर सम्मेलन अपनी स्थापना के 15वें वर्ष में प्रवेश कर गया है। फिक्की स्किल्स को भारत का सबसे बड़ा स्किल कॉन्क्लेव बनाने में अग्रणी होने पर गर्व है, जिसमें भारत और विदेशों से भागीदारी होती है। वर्षो से हम कौशल और ज्ञान, उभरते कौशल जैसे प्रासंगिक विषयों पर चर्चा कर रहे हैं जिसमें भारत 2020, व्यावसायिक प्रशिक्षण में गुणवत्ता प्रतिमान, आज और कल के लिए नए युग के कौशल और बहुत कुछ शामिल है।

इस वर्ष शिखर सम्मेलन का फोकस एजुकेशन टु एम्प्लोयाबिलिटी- मैकिंग इट हैप्पन है और प्रमुख कार्यान्वयन योग्य कार्यो पर चर्चा करेगा जो हमारे देश के युवाओं को मदद करेगा।

केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री धर्मेद्र प्रधान को शिखर सम्मेलन का उद्घाटन करने और संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया है। अन्य प्रख्यात वक्ताओं में कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के सचिव अतुल कुमार तिवारी, कुंदन कुमार, सलाहकार, कौशल विकास, श्रम और रोजगार- नीति आयोग, निर्मलजीत सिंह कलसी, आईएएस (सेवानिवृत्त), अध्यक्ष, एनसीवीईटी, वेद मणि तिवारी, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम में मुख्य परिचालन अधिकारी, अनिल डी. सहस्रबुद्धे, अध्यक्ष एनईटीएफ और पूर्व अध्यक्ष, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) शामिल हैं।

विश्व बैंक, आईएलओ, यूएनडीपी, यूनीसेफ, जीआईजेड, यूएन वुमेन जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के अलावा शिखर सम्मेलन में लिंक्डइन, एडोबी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, श्नाइडर इलेक्ट्रिक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, सेल्सफोर्स, स्किलवेरी मेटावर्स और एक्सआर सिमुलेशन, अमेजन, गोडिस्कवर, हुडएप जैसे संगठनों के उद्योग के लीडर्स की भागीदारी दिखाई देगी।

उद्यमिता, शिक्षुता और शिल्प कौशल को प्रोत्साहित करने पर भी चर्चा होगी।

शिखर सम्मेलन प्रमुख हितधारकों को रणनीतियों पर विचार-विमर्श करने और 21वीं सदी के कौशल पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित करने में मदद करने वाली सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए एक साथ लाएगा। 400 से अधिक प्रतिभागियों के साथ, शिखर सम्मेलन की प्रमुख विशेषताएं पैनल सत्र, मास्टरक्लास, विरासत: दि हेरिटेज, प्रदर्शनी और बी2बी बैठकें होंगी।

शिखर सम्मेलन भविष्य में कौशल, नौकरी के बाजार में बदलती मांग, भारत में मौजूदा रोजगार के अवसरों और उद्यमियों, शिल्पकारों और कारीगरों के लाभकारी जुड़ाव पर गहराई से विचार करेगा।

शिखर सम्मेलन के वक्ता निम्नलिखित पर विचार करेंगे :

- नई पीढ़ी का कौशल विकास एक राष्ट्रीय आवश्यकता है। यह आत्मनिर्भर भारत की आधारशिला है। औपचारिक शिक्षा को व्यावसायिक शिक्षा के साथ समेकित रूप से एकीकृत करने के लिए हमें कौन-सी महत्वपूर्ण कार्रवाइयां करने की आवश्यकता है?

- इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, सरकार, नीति निर्माता, उद्योग, शिक्षाविद, सेवा प्रदाता जनसांख्यिकीय लाभांश प्राप्त करने के लिए क्या कर रही है?

- हम अपने देश में उद्योग के नेतृत्व वाला कौशल पारिस्थितिकी तंत्र बनाने के लिए उद्योग के साथ जुड़ाव को अधिकतम कैसे कर सकते हैं? सरकार इसे समर्थन देने में क्या भूमिका निभा सकती है?

- क्या कौशल का अंतर्राष्ट्रीयकरण संभव है, क्या हमें अंतरराष्ट्रीय कॉलेजों/विश्वविद्यालयों/प्रशिक्षण प्रदाताओं को एक संभावित पारिस्थितिक तंत्र भागीदार के रूप में विचार करने की आवश्यकता है? यदि हां, तो हम उनके साथ अपने संबंधों को कैसे मजबूत करते हैं?

- उद्यमियों और नए व्यवसायों का समर्थन करते हुए, सरकार और उद्योग व्यवसाय करने में आसानी के साथ उनका समर्थन करने के लिए कैसे सहयोग कर सकते हैं?

- स्किलिंग पर राष्ट्रीय फंडिंग के साथ न्यूनतम स्तर तक पहुंचने के साथ, हम एक स्थायी स्किलिंग इकोसिस्टम कैसे बना सकते हैं जिसे सरकार के नेतृत्व वाले पुश इकोसिस्टम से बाजार के नेतृत्व वाले पुल इकोसिस्टम की ओर बढ़ना है?

--आईएएनएस

एसकेके/एसकेपी

Share this story