भारत में 5जी स्मार्टफोन की बिक्री में 163 फीसदी की वृद्धि, सैमसंग टॉप पर

भारत में 5जी स्मार्टफोन की बिक्री में 163 फीसदी की वृद्धि, सैमसंग टॉप पर
भारत में 5जी स्मार्टफोन की बिक्री में 163 फीसदी की वृद्धि, सैमसंग टॉप पर नई दिल्ली, 4 अगस्त (आईएएनएस)। अप्रैल-जून की अवधि में भारत में 5जी शिपमेंट में 163 प्रतिशत (साल-दर-साल) की वृद्धि हुई, और सैमसंग 28 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ टॉप पर रहा। इसके बाद वीवो 15 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ दूसरे स्थान पर रहा। गुरुवार को जारी एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है।

साइबर मीडिया रिसर्च (सीएमआर) की इंडिया मोबाइल हैंडसेट मार्केट रिपोर्ट के अनुसार, 2022 की दूसरी तिमाही में भेजे गए प्रत्येक तीन स्मार्टफोन में से एक 5जी सक्षम स्मार्टफोन था क्योंकि शिपमेंट में 7 प्रतिशत (तिमाही-दर-तिमाही) की वृद्धि हुई।

उद्योग खुफिया समूह, सीएमआर की विश्लेषक मेनका कुमारी ने कहा, 5जी नीलामी के पूरा होने और भारत में 5जी सेवाओं के प्रत्याशित रोल-आउट के साथ, 5जी स्मार्टफोन शिपमेंट में और गति आएगी।

7,000-24,999 रुपये में 5जी स्मार्टफोन शिपमेंट में 160 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई, जबकि इस सेगमेंट में कुल स्मार्टफोन शिपमेंट में 12 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

किफायती स्मार्टफोन शिपमेंट (7,000 रुपये से कम) में सालाना आधार पर 61 फीसदी की गिरावट आई है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रीमियम स्मार्टफोन (25,000 रुपये से 50,000 रुपये) और सुपर प्रीमियम स्मार्टफोन (50,000 रुपये से 1,00,000 रुपये) क्रमश: 80 फीसदी और 96 फीसदी बढ़े हैं।

स्मार्टफोन मार्केट लीडर को छोड़कर, शीर्ष पांच स्मार्टफोन लीडरबोर्ड में से अधिकांश प्रमुख चीनी स्मार्टफोन ब्रांडों ने तिमाही के दौरान अच्छी वृद्धि दर्ज की।

शाओमी (20 प्रतिशत), सैमसंग (18 प्रतिशत) और रियलमी (16 प्रतिशत) ने दूसरी तिमाही में स्मार्टफोन लीडरबोर्ड में शीर्ष तीन स्थानों पर कब्जा कर लिया, इसके बाद वीवो (15 प्रतिशत) और ओप्पो (10 प्रतिशत) का स्थान है।

78 फीसदी बाजार हिस्सेदारी के साथ एप्पल सुपर-प्रीमियम (50,000-1,00,000 रुपये) सेगमेंट में सबसे ऊपर है।

तिमाही के दौरान आईफोन 12 और आईफोन 13 सीरीज ने आईफोन शिपमेंट में योगदान दिया।

सीएमआर के विश्लेषक-आईआईजी अमित शर्मा ने कहा, हम अनुमान लगाते हैं कि एच2 2022 में त्योहारी सीजन से आपूर्ति और अच्छी हो सकती है।

--आईएएनएस

एसकेके/एसकेपी

Share this story