वाइब्रेशनल फ्रीक्वेंसी से आईफोन कैमरा हो सकता है प्रभावित,जानिए कैसे

वाइब्रेशनल फ्रीक्वेंसी से आईफोन कैमरा हो सकता है प्रभावित,जानिए कैसे
वाइब्रेशनल फ्रीक्वेंसी से आईफोन कैमरा हो सकता है प्रभावित,जानिए कैसे सैन फ्रांसिस्को, 12 सितम्बर (आईएएनएस)। एप्पल ने आईफोन यूजर्स को चेतावनी दी है कि उनके डिवाइस के कैमरे कुछ वाइब्रेशनल फ्रीक्वेंसी के संपर्क में आने से डैमेज हो सकता हैं, जैसा हाई-पावर मोटरसाइकिल इंजन द्वारा उत्पन्न होता है।

ऑप्टिकल इमेज स्टेबिलाइजेशन (ओआईएस) या क्लोज्ड-लूप ऑटोफोकस (एएफ) वाले आईफोन कैमरा लेंस, जाइरोस्कोप और चुंबकीय सेंसर के उपयोग के कारण इस क्षति के लिए अतिसंवेदनशील होता हैं, जो फोटो या वीडियो शूट करते समय मूवमेंट और वाइब्रेशन को बैलेंस करने में मदद करता हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, आईफोन में ओआईएस और क्लोज्ड-लूप एएफ सिस्टम ड्यूरेबिलिटी के लिए डिजाइन किया गया हैं।

हालाँकि, जैसा कि कई उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स के मामले में होता है, जिसमें ओआईएस जैसी प्रणालियाँ शामिल होती हैं, कुछ फ्ऱीक्वेंसी रेंज के भीतर उच्च-आयाम वाइब्रेशन के लिए लंबे समय तक प्रत्यक्ष संपर्क से इन प्रणालियों के प्रदर्शन को खराब कर सकता है और फोटो और वीडियो के लिए कैमरे को खरब कर सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अपने आईफोन को विस्तारित वाइब्रेशनल फ्रीक्वेंसी से बचने की सलाह दी जाती है।

इसके चलते एप्पल ने आईफोन यूजर्स को सीधे ऐसी मोटरसाइकिलों के चेसिस या हैंडलबार से न जोड़ें को कहता है, क्योंकि वाइब्रेशन का सीधा प्रसारण तीव्र हो सकता है।

एप्पल ने कहा, उपयोगकर्ता अपने उपकरणों को मोपेड और इलेक्ट्रिक स्कूटर जैसे कम-शक्ति वाले उपकरणों पर माउंट करें, किसी भी नुकसान की संभावना को कम करने के लिए कम से कम वाइब्रेशन-डंपिंगमाउंट का उपयोग करें।

--आईएएनएस

एनपी/आरजेएस

Share this story