दिल्ली के लिए मौसम विभाग की भविष्यवाणी नहीं हो रही सही साबित, कार्य प्रगति पर

दिल्ली के लिए मौसम विभाग की भविष्यवाणी नहीं हो रही सही साबित, कार्य प्रगति पर
दिल्ली के लिए मौसम विभाग की भविष्यवाणी नहीं हो रही सही साबित, कार्य प्रगति पर नई दिल्ली, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक साल में एक महीने को छोड़कर जून से सितंबर के दौरान दिल्ली में बारिश के लिए महीने-वार पूवार्नुमान कभी भी 100 प्रतिशत सही नहीं रहा।

आईएमडी द्वारा एक संकलन के अनुसार, 100 प्रतिशत सटीक पूवार्नुमान जुलाई 2012 में था, उसी वर्ष जब दक्षिण-पश्चिम मानसून के मौसम के लिए पूरी दिल्ली के लिए पूवार्नुमान सटीकता 92 प्रतिशत तक थी, जबकि अन्य वर्षो के लिए यह 85 प्रतिशत से कम थी।

कहा जा सकता है कि आईएमडी ने वैज्ञानिक कार्य संबंधी पारदर्शिता के ठोस उपाय के रूप में हितधारकों के लिए इस संकलन को अपनी वेबसाइट पर रखा है।

कई अन्य राज्यों की तुलना में राष्ट्रीय राजधानी में बारिश होने वाले दिनों की संख्या सीमित है। लेकिन बदलती जलवायु परिस्थितियों को देखते हुए, जिसने वर्षा को और अधिक अनिश्चित बना दिया है, यह और भी आवश्यक है कि एक सटीक या यथासंभव सटीक पूवार्नुमान लगाया जाए।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के माधवन राजीवन ने कहा, आईएमडी की पूवार्नुमान की सटीकता में बहुत सुधार हुआ है, विशेष रूप से कम दूरी के पूवार्नुमान। उदाहरण के लिए, 48-घंटे की पूवार्नुमान सटीकता लगभग 80-85 प्रतिशत है। इसमें पिछले वर्षो में काफी सुधार हुआ है। आईएमडी पूवार्नुमान के लिए बेहतर मॉडल का उपयोग कर रहा है।

इस वर्ष, आईएमडी ने मौजूदा दो-चरण पूवार्नुमान रणनीति को संशोधित किया। नई रणनीति मौजूदा सांख्यिकीय पूवार्नुमान प्रणाली और नव विकसित बहु-मॉडल एन्सेम्बल (एमएमई) आधारित पूवार्नुमान प्रणाली पर आधारित है। एमएमई दृष्टिकोण आईएमडी के अपने मानसून मिशन जलवायु पूवार्नुमान प्रणाली (एमएमसीएफएस) सहित विभिन्न वैश्विक जलवायु पूर्वानुमान और अनुसंधान केंद्रों से युग्मित वैश्विक जलवायु मॉडल (सीजीसीएम) का उपयोग करता है।

हालांकि, राजीवन ने कहा, किसी भी चल रहे मॉडल में त्रुटियों की संभावना होगी। उन्होंने आईएएनएस को बताया, ये सभी पूवार्नुमान इस बात पर निर्भर हैं कि प्रारंभिक डेटा मॉडल में कितना जाता है। इस प्रारंभिक डेटा की मात्रा पूवार्नुमान की गुणवत्ता तय करेगी। हम जितना संभव हो उतना डेटा जमा करते हैं। उपग्रहों, सतह वेधशालाओं, जहाजों, विमान से बड़ी मात्रा में डेटा जमा होता है। यह डेटा इकट्ठा करना भी पिछले 7-8 वर्षो में काफी बढ़ गया है।

चीन और यूरोपीय संघ से डेटा प्राप्त करने के लिए समझौते हैं और वह भी जमा किए गए डेटा को जोड़ता है।

आईएमडी के संकलन से पता चला है कि पिछले 10 वर्षो में, यानी 2011 से अगस्त 2021 तक, पूवार्नुमान सटीकता अगस्त 2020, अगस्त 2021, सितंबर 2012, सितंबर 2015, सितंबर 2018 और सितंबर 2020 (सितंबर 2021 का डेटा अभी तक उपलब्ध नहीं था) में 90 प्रतिशत या उससे अधिक थी।

दो बार (2011 और 2020) जून के लिए पूवार्नुमान की सटीकता 80 से 90 प्रतिशत के बीच थी, तीन बार जुलाई के लिए (2011, 2019 और 2021), अगस्त के लिए यह पांच गुना (2012, 2017, 2019, 2020 और 2021) था और सितंबर के महीने के लिए, 80 से 90 प्रतिशत के बीच पूवार्नुमान सटीकता वर्ष 2011, 2013, 2014, 2016 और 2017 में थी, जैसा कि आंकड़ों से पता चलता है।

इसी तरह, वर्ष 2017, 2018 और 2021 में जून महीने के लिए पूवार्नुमान सटीकता 70 से 80 प्रतिशत के बीच थी। जुलाई में दो बार (2016 और 2017 में), अगस्त में भी दो बार (2014 और 2016 में) जबकि यह केवल एक बार था कि 2019 में सितंबर के लिए पूवार्नुमान सटीकता 70 से 80 प्रतिशत के बीच दर्ज की गई थी।

आईएमडी के आंकड़ों से पता चला है कि जुलाई 2014 (42 प्रतिशत) में दक्षिण-पश्चिम मानसून के मौसम के पूवार्नुमान की सटीकता 50 प्रतिशत से भी अधिक नहीं हो सकी। आराम के लिए, यह 60 से 70 प्रतिशत के बीच था। हैरानी की बात यह है कि गैर-मानसून महीनों में, यानी सर्दियों में दिल्ली के लिए बारिश के पूर्वानुमान की सटीकता बेहतर थी।

यह कहते हुए कि भारत में सटीकता वैश्विक स्तर से तुलनीय है, राजीवन ने आगे कहा, हम आदर्श रूप से भारतीय मौसम प्रणाली की तुलना अमेरिकी मौसम प्रणाली के साथ नहीं कर सकते हैं। मौसम के पूवार्नुमान की सटीकता मध्य-अक्षांश या ध्रुवीय क्षेत्र की तुलना में थोड़ी कम होती है।

आईएमडी के पूर्व महानिदेशक रंजन केलकर ने कहा, दिल्ली में स्थानिक वितरण असमान है। लोग अब व्यावहारिक कार्यो के संदर्भ में आईएमडी के पूवार्नुमान की व्याख्या करने के इच्छुक हैं। आधुनिक दुनिया में यह बदलाव है, क्योंकि सटीकता अच्छी है, नागरिक निकाय उचित कार्रवाई करने में सक्षम है। यदि आपका पूवार्नुमान विश्वसनीय है, तो अन्य एजेंसियां उचित कार्रवाई कर सकती हैं और उसी के अनुसार लोगों को सूचित भी कर सकती हैं।

वह नोएडा से गुरुग्राम या गाजियाबाद से हवाईअड्डे की यात्रा करने वाले लोगों का उदाहरण देते हैं, जो वास्तव में बेहतर आईएमडी पूवार्नुमान से लाभान्वित होते हैं।

--आईएएनएस

एचके/एसजीके

Share this story