लोगों के लिए भगवान समान थे शिवसेना नेता आनंद दीघे : अभिनेता प्रसाद ओक

लोगों के लिए भगवान समान थे शिवसेना नेता आनंद दीघे : अभिनेता प्रसाद ओक
लोगों के लिए भगवान समान थे शिवसेना नेता आनंद दीघे : अभिनेता प्रसाद ओक पणजी, 24 नवंबर (आईएएनएस)। प्रसिद्ध मराठी अभिनेता प्रसाद ओक ने गुरुवार को कहा कि वह धर्मवीर..मुक्कम पोस्ट ठाणे में शिवसेना के दिवंगत नेता आनंद दिघे की भूमिका निभाने के दौरान बहुत सतर्क थे क्योंकि उनकी एक भी गलती जनता के क्रोध दिला देता क्योंकि लोग उनको भगवान बनाते हैं।

प्रसाद ओक गोवा में चल रहे इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया में टेबल टॉक कार्यक्रम के दौरान अपनी बात रखी। धर्मवीर..मुक्कम पोस्ट ठाणे दिवंगत शिवसेना नेता आनंद दिघे के जीवन पर आधारित एक बायोपिक है, जिन्होंने अपना जीवन महाराष्ट्र के ठाणे के लोगों के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया।

कहानी हमें शिवसेना के शुरूआती दिनों में वापस ले जाती है जब एक युवा आनंद दिघे एक पार्टी कार्यकर्ता थे जो पार्टी के एक प्रमुख सदस्य बन गए। एक रिपोर्टर ने अपने गुरुजनों, अपने परिवार के साथ-साथ कई आम थानेकरों (ठाणे के लोग) से मुलाकात के दौरान अपनी कहानी का पता लगाया, जो आज भी उनका सम्मान करते हैं।

प्रसाद ओक ने कहा कि ठाणे-महाराष्ट्र में हजारों लोगों द्वारा आनंद दीघे को भगवान की तरह पूजा जाता था।

ओक ने कहा, आनंद दिघे को चित्रित करना एक कठिन काम था क्योंकि कोई भी छोटी सी गलती जनता के क्रोध को आमंत्रित करती थी। इस भूमिका को न्याय देना मेरी जिम्मेदारी थी। वह हजारों लोगों के लिए भगवान थे।

उन्होंने कहा कि, आनंद दीघे की भूमिका निभाने से पहले, उन्होंने उनकी गतिविधियों का अध्ययन किया और जनता के साथ कैसे बात करते थे।

उन्होंने कहा, मैं आनंद दीघे से कभी नहीं मिला था। इसलिए इस भूमिका को निभाना एक बड़ा काम था। लेकिन कई लोग आए और मुझे उनकी तस्वीरें दिखाते हुए मिले और उनकी कहानियां सुनाईं, नेट पर कुछ वीडियो ने भी मुझे उनकी हरकतों को देखने में मदद की।

ओक ने कहा कि पूरी कवायद को टीम के संज्ञान में लाया गया था और एक बार जब उसे मंजूरी मिल जाती थी, तो वह जैसे है वैसा ही प्रदर्शन करते थे।

देसाई ने दीघे की तारीफ करते हुए निर्माता मंगेश देसाई ने कहा कि, उन्होंने 2013 से इस फिल्म को बनाने का सपना देखा था और 2022 में पूरा हो गया। मैं उनके सकारात्मक काम को लोगों तक पहुंचाना चाहता था। उन्होंने हमेशा गरीब लोगों की मदद की।

उनका कहना है कि, उनका सौहार्द महाराष्ट्र के लोगों के साथ था। मैं उनके जीवन के बारे में जानने के लिए उत्सुक था। आनंद दिघे इतने शक्तिशाली थे कि उन्होंने दंगों में शामिल समूहों को शांत करने के लिए एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। एक बार ऐसा ²श्य फिल्म में दिखाया गया, जो वास्तविक था।

--आईएएनएस

पीटी/एएनएम

Share this story