उत्तर प्रदेश में पहली बार फिश टनल भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में

उत्तर प्रदेश में पहली बार फिश टनल भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में
लखनऊ। प्रगति पर्यावरण संरक्षण ट्रस्ट एवं प्रगति इवेंट के तत्वाधान में चल रहे भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में 75वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर संस्था के अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह ने ध्वजारोहण किया और उपस्थित जन समूह को संबोधित करते हुए कहा कि हमारा देश विश्व के सबसे बड़े संविधान को मानने और उसका पालन करने वाला देश है। 

सुप्रसिद्ध भोजपुरी गायिका प्रिया पाल का जादू सर चढ़कर बोल

 देश में हर व्यक्ति को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्राप्त है। समाज के सभी लोग अपनी पद्धति से पूजा अर्चना से लेकर अपने अधिकारों का उपयोग सामान्य रूप से कर सकते हैं। यही हमारे संविधान की विशेषता है। उपाध्यक्ष एन बी सिंह ने सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई दी। गणतंत्र दिवस के अवसर पर भारत हस्तशिल्प महोत्सव में सांस्कृतिक कार्यक्रम में गणतंत्र दिवस की धूम दिखाई दी। अनेकों संस्थाओं ने गणतंत्र दिवस पर अपनी प्रस्तुतियां प्रस्तुत की और पूरे माहौल को देशभक्ति से सराबोर कर दिया।

उत्तर प्रदेश में पहली बार फिश टनल भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में

भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में गुंजा जय श्री राम का घोष। शैक्षिक, साहित्यिक और संस्कृति उत्थान को समर्पित मां विंध्यवासिनी ट्रस्ट लोक जागृति कार्यशाला समिति द्वारा लखनऊ आशियाना श्री काशीराम स्मृति उपवन मैं चल रहे भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में नमामि राम साहित्य समारोह में सम्मानित कवि, कवित्रियों ने अपनी प्रस्तुति से समा बांध। कार्यक्रम प्रारंभ श्री राम स्तुति की प्रस्तुति से हुआ। संस्था की अध्यक्षा साधना मिश्रा द्वारा आयोजित समारोह में प्रभु श्री राम की कीर्ति गाथा को प्रतिभागियों ने गीत, गजल, भजन, कविता व छंदों में प्रस्तुत करते हुए अपने उल्लास, अभिलाषाएं व्यक्त की। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पार्षद रिचा आदर्श मिश्रा रही। नीलम शुक्ला, कंचन मिश्रा, डॉ हरि प्रकाश, हरी प्रवीण श्रीवास्तव, एकता गुप्ता, संजय चतुर्वेदी, अमित गुप्ता, तारा गुप्ता, सुशील यादव एवं साधना मिश्रा उपस्थित रही।

संस्था द्वारा ‘कौशल्या दशरथ के नंदन’ अर्षजोत कौर द्वारा, ‘मेरे घर राम आए हैं’

भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में सुरभि कल्चरल ग्रुप द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम और हुनरमंद कन्याओं को सुरभि कन्या विशिष्ट सम्मान दिया गया। संस्था द्वारा ‘कौशल्या दशरथ के नंदन’ अर्षजोत कौर द्वारा, ‘मेरे घर राम आए हैं’ आन्या गौतम द्वारा, ‘नाच रही राधिका’ आशी द्विवेदी द्वारा, ‘फेरो ना नजरिया’ पर डांस स्टाइल कत्थक रक्षा त्रिपाठी रक्षा त्रिपाठी द्वारा, ‘श्री रामचंद्र चरणम’ जय सिंह द्वारा, ‘छाप तिलक सब’ शिक्षा अग्रवाल द्वारा प्रस्तुत किया गया।

उत्तर प्रदेश में पहली बार फिश टनल भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में

मुख्य अतिथि के रूप में मेजर डॉक्टर मनमीत कौर सोढ़ी, एनसीसी अधिकारी और विभगा अध्यक्ष दर्शनशास्त्र, विशिष्ट अथिति के रूप में डॉक्टर रेखा यादव, असिस्टेंट प्रोफेसर उपस्थित रहीं। कार्यक्रम का संयोजन शैलेंद्र सक्सेना, सचिव, सुरभि कल्चरल ग्रुप ने किया। परियों साहित्यिक सामाजिक संस्था ने भारत हस्तशील महोत्सव 2024 बहुत ही शानदार कवि सम्मेलन एवं मुशायरे का आयोजन किया। कार्यक्रम में शिवमंगल सिंह, गुरु ओम नीरव, सौरभ बाजपेई, हर्षित मिश्रा, अजय तोमर, अतीक, प्रिया सिंह, बलवंत सिंह ने भाग लिया।

सुप्रसिद्ध भोजपुरी लोक गायिका प्रिया पाल सिंह ने ठंडी में गर्मी का अहसास करा दिया

भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 महोत्सव की संस्कृतिक संध्या आज बहुत ही विशेष रही। सुप्रसिद्ध भोजपुरी लोक गायिका प्रिया पाल सिंह ने ठंडी में गर्मी का अहसास करा दिया। प्रिया पाल द्वारा एक से बढ़कर एक भोजपुरी गीतों ने हर किसी को झूमने और ताली बजाने पर मजबूर कर दिया। प्रिया पाल हमेशा से अपने अनूठे अंदाज के लिए भोपपुरी गायन को क्षेत्र में अपना एक अलग स्थान बना चुकी हैं। उन्होंने अपनी गायकी की शुरुआत देवी गीत से किया। इसी क्रम में उन्होंने अपनी खनकती हुई आवाज में भोजपुरी गीत मैसे नइया मे लक्ष्मण राम गंगा मइया धीरे बहो, कन्हैया मैं तो नाचूँगी तेरी मुरली पे, रामा लखन दोनों भईया अवध रहवईया उन्हीं के संग आए हैं को सुना कर श्रोताओं को मंत्र मुग्ध कर दिया।

उत्तर प्रदेश में पहली बार फिश टनल भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 में

इसी क्रम में प्रिया पाल ने अपनी सुमधुर आवाज में फेक दिहले थरिया बलम गईले झरिया, पियवा जाती बानी पुलिस के बहलिया में और हे पिया हमको घुमाई दे यूपी महोत्सव भोजपुरी गीत को सुना कर श्रोताओं की असंख्य तालियां बटोरीं।  भारत हस्तशिल्प महोत्सव 2024 की सांस्कृतिक संध्या का शुभारंभ प्रगति पर्यावरण संरक्षण ट्रस्ट के अध्यक्ष विनोद कुमार सिंह और एन. बी. सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यक्रम का संचालन अरविंद सक्सेना ने किया और सहयोगक के रूप में अथर्व रहे।

ब्यूरो चीफ आर एल पाण्डेय

Share this story