ई-हॉस्पिटल सर्वर डाउन होने के कारण एम्स ने मैनुअल प्रवेश के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए

ई-हॉस्पिटल सर्वर डाउन होने के कारण एम्स ने मैनुअल प्रवेश के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए
ई-हॉस्पिटल सर्वर डाउन होने के कारण एम्स ने मैनुअल प्रवेश के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने गुरुवार को मैन्युअल प्रवेश के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए, क्योंकि इसके सर्वर की लगातार डाउन होने की खबरें सामने आ रही हैं।

नए मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) के अनुसार, सर्वर के ठीक होने तक मरीजों का प्रवेश, डिस्चार्ज और स्थानांतरण मैन्युअल रूप से किया जाएगा।

नए एसओपी के तहत, अस्पताल ने कहा है कि विशिष्ट स्वास्थ्य पहचान (यूएचआईडी) नहीं होने की स्थिति में, संपर्क नंबर को रोगी पहचान संख्या माना जाएगा। अस्पताल ने कहा, एम्स नई दिल्ली में भर्ती, डिस्चार्ज और स्थानांतरण मैन्युअल रूप से किया जाएगा। इंडेंट मैन्युअल रूप से किया जाना है। आगे कहा कि कार्यसमिति के निर्देशानुसार मृत्यु या जन्म प्रमाण पत्र मैन्युअल रूप से प्रपत्रों पर बनाए जाएंगे।

अस्पताल ने कहा, सिर्फ जरूरी सैंपल ही भेजे जाएं और वह भी भरे हुए फॉर्म के साथ। कार्यसमिति के निदेर्शानुसार केवल अति आवश्यक जांच प्रपत्रों के साथ भिजवाना है। बुधवार को, अस्पताल ने सूचित किया था कि उसका सर्वर सुबह 7 बजे से आउट पेशेंट विभाग (ओपीडी) और नमूना संग्रह सेवाओं को प्रभावित कर रहा है।

एम्स ने एक बयान में कहा था- आज एम्स, नई दिल्ली में उपयोग किए जा रहे राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र के ई-अस्पताल का सर्वर डाउन हो गया, जिसके कारण स्मार्ट लैब, बिलिंग, रिपोर्ट जनरेशन, अपॉइंटमेंट सिस्टम आदि सहित आउट पेशेंट और इनपेशेंट डिजिटल अस्पताल सेवाएं प्रभावित हुई हैं।

अस्पताल ने कहा था, डिजिटल सेवाओं को बहाल करने के उपाय किए जा रहे हैं और भारतीय कंप्यूटर आपातकालीन प्रतिक्रिया टीम (सीईआरटी-इन) और राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) से मदद मांगी जा रही है। भविष्य में इस तरह के हमलों को रोकने के लिए, यह कहते हुए कि एम्स और एनआईसी भविष्य में इस तरह के हमलों को रोकने के लिए उचित सावधानी बरतेंगे।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

Share this story