निकोटीन युक्त ई-सिगरेट से हो सकता है ब्लड क्लॉटिंग -

निकोटीन युक्त ई-सिगरेट से हो सकता है ब्लड क्लॉटिंग -
निकोटीन युक्त ई-सिगरेट से हो सकता है ब्लड क्लॉटिंग - लंदन, 6 सितम्बर (आईएएनएस)। यूरोपियन रेस्पिरेटरी सोसाइटी इंटरनेशनल कांग्रेस में प्रस्तुत शोध ने बताया है कि निकोटीन युक्त ई-सिगरेट के उपयोग से ब्लड क्लॉटिंग होने में वृद्धि होती है। ब्लड वेसल में विस्तार और ब्लड विस्तार करने की क्षमता में गिरावट आती है, साथ ही हृदय गति और ब्लड प्रेशर में वृद्धि होती है।

निकोटीन शरीर में एड्रेनालाईन जैसे हार्मोन के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है,जो ब्लड क्लॉटिंग को बढ़ाता है।

स्वीडन के स्टॉकहोम में करोलिंस्का इंस्टीट्यूट के नेतृत्व में किए गए छोटे अध्ययन में 18 से 45 वर्ष की आयु के 22 महिलाओं और पुरुषों के एक समूह का विश्लेषण किया गया, जो कभी-कभार धूम्रपान करने वाले थे वही लोग स्वस्थ थे।

निष्कर्षों से पता चला कि निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने से स्वयंसेवकों में तत्काल अल्पकालिक परिवर्तन हुए। टीम ने 15 मिनट के बाद ब्लड क्लॉटिंग का औसतन 23 प्रतिशत की वृद्धि का पता लगाया है, जो 60 मिनट के बाद सामान्य स्तर पर लौट आया।

हेलसिंगबर्ग अस्पताल के एक चिकित्सक और संस्थान के शोधकर्ता गुस्ताफ लियटिनन ने कहा, निकोटीन युक्त ई-सिगरेट का उपयोग करने से शरीर पर पारंपरिक सिगरेट पीने के समान प्रभाव पड़ता है। रक्त के थक्कों पर यह प्रभाव महत्वपूर्ण है, क्योंकि हम जानते हैं कि लंबे समय में यह ब्लड वेसल को बंद और संकुचित कर सकता है, और यह निश्चित रूप से लोगों को दिल के दौरे और स्ट्रोक के खतरे में डालता है।

शोधकर्ता ने कहा कि शरीर पर निकोटीन के प्रभाव सहित पारंपरिक सिगरेट पीने से होने वाले नुकसान सर्वविदित हैं।

--आईएएनएस

एनपी/आरजेएस

Share this story