भारत में आयोजित होगा पहला 5जी-कनेक्टेड एम्बुलेंस परीक्षण

भारत में आयोजित होगा पहला 5जी-कनेक्टेड एम्बुलेंस परीक्षण
भारत में आयोजित होगा पहला 5जी-कनेक्टेड एम्बुलेंस परीक्षण नई दिल्ली, 28 अप्रैल (आईएएनएस)। भारती एयरटेल ने गुरुवार को अपोलो हॉस्पिटल्स और सिस्को के साथ 5जी कनेक्टेड एम्बुलेंस बनाने के लिए साझेदारी की है। यह स्वास्थ्य सेवा तक पहुंच को बदल सकती है और आपातकालीन स्थितियों में लोगों की जान बचा सकती है।

कस्टम-डिजाइन की गई अत्याधुनिक 5जी-कनेक्टेड एम्बुलेंस लेटेस्ट चिकित्सा उपकरण, रोगी निगरानी एप्लीकेशन्स और टेलीमेट्री उपकरणों से सुसज्जित है जो रोगी के स्वास्थ्य डेटा को वास्तविक समय में अस्पताल तक पहुंचाती है।

इसके अलावा, यह ऑनबोर्ड कैमरा, कैमरा-आधारित हेडगियर और पैरामेडिक स्टाफ के लिए बॉडी कैम से भी लैस है जो सभी अल्ट्रा-फास्ट और लो लेटेंसी एयरटेल 5जी नेटवर्क से जुड़े हैं।

इसे ऑगमेंटेड रियलिटी/वर्चुअल रियलिटी जैसी तकनीकों के साथ और सक्षम बनाया जाएगा, जो एम्बुलेंस को हमेशा अस्पताल से जुड़े रहकर आपातकालीन कक्ष के विस्तार के रूप में कार्य करने में मदद करेगा। यह डॉक्टरों को वस्तुत: एम्बुलेंस तक पहुँचाने में भी मदद कर सकता है।

दूरसंचार विभाग द्वारा एयरटेल को आवंटित 5जी ट्रायल स्पेक्ट्रम को लेकर बेंगलुरु में प्रदर्शन किया गया।

भारती एयरटेल के निदेशक और सीईओ अजय चितकारा ने एक बयान में कहा, 5जी एक परिवर्तनकारी तकनीक है और स्वास्थ्य सेवा 5जी के लिए सबसे आशाजनक उपयोग के मामलों में से एक है।

अध्ययनों से पता चलता है कि अस्पताल के लिए बढ़ी हुई यात्रा की दूरी मृत्यु दर के बढ़ते जोखिमों का कारण बनी हुई है।

अपोलो अस्पताल समूह के संयुक्त प्रबंध निदेशक डॉ संगीता रेड्डी ने कहा, इन जानकारियों ने हमें 5जी कनेक्टेड एम्बुलेंस प्रोजेक्ट पर एयरटेल के साथ सहयोग करने और 5जी का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया ताकि यह प्रदान की जाने वाली व्यवधान-मुक्त, अंतराल-मुक्त कनेक्टिविटी का उपयोग कर सके। इससे कई लोगों की जान बचाने में मदद मिलेगी क्योंकि खुद एम्बुलेंस में भी समय पर उपचार शुरू किया जा सकता है।

सिस्को इंडिया और सार्क में सेवा प्रदाता व्यवसाय और प्रबंध निदेशक, आनंद भास्कर ने कहा, 5जी नए उपयोग के मामलों को सक्षम करने और हर उद्योग में और विशेष रूप से स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में दक्षता में सुधार करने में एक गेम-चेंजर होगा, क्योंकि 5जी डॉक्टरों को रोगी की निगरानी और उपचार को बढ़ाने के लिए कार्रवाई योग्य अंतर्²ष्टि प्रदान करेगी।

--आईएएनएस

एसकेके/एएनएम

Share this story