हुआवे के कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में चीनी कंपनी की घुसपैठ

हुआवे के कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में चीनी कंपनी की घुसपैठ
हुआवे के कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में चीनी कंपनी की घुसपैठ नई दिल्ली, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। हुआवे के कैंब्रिज विश्वविद्यालय के एक अनुसंधान केंद्र में चीन पर घुसपैठ करने का आरोप लगाया गया है, क्योंकि उसके अधिकांश शिक्षाविदों के चीनी कंपनी के साथ संपर्क पाए गए हैं। यह खुलासा यूके से प्रकाशित होने वाले द टाइम्स ने किया है।

कैम्ब्रिज सेंटर फॉर चाइनीज मैनेजमेंट (सीसीसीएम) के चार में से तीन निदेशकों का कंपनी से संबंध है, और इसके तथाकथित मुख्य प्रतिनिधि हुआवे के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष हैं, जिन्हें चीनी सरकार द्वारा भुगतान किया गया है।

विश्वविद्यालय ने कहा, हुआवे के एक पूर्व कार्यकारी ने कभी भी केंद्र को सेवाएं नहीं दी हैं, जबकि फर्म ने खुद कहा है कि अनुचितता का कोई भी सुझाव बेतुका है।

डेली मेल ने बताया कि आलोचकों ने दावा किया है कि विश्वविद्यालय ने सीसीसीएम को चीनी कंपनी द्वारा घुसपैठ करने की अनुमति दी है जिसे ब्रिटेन के 5जी नेटवर्क में शामिल होने से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

हांगकांग वॉच अभियान समूह के नीति निदेशक जॉनी पैटरसन ने अखबार से कहा कि विश्वविद्यालय को हुआवेई और सीसीसीएम के बीच संबंधों की जांच करनी चाहिए।

इस बीच, इयान डंकन स्मिथ ने कैंब्रिज विश्वविद्यालय को चीन के पैसे पर निर्भर होने पर सबसे खराब अपराधियों में से एक बताया।

उन्होंने टाइम्स को बताया कि हाल के वर्षों में ब्रिटिश कंपनियां और विश्वविद्यालय चीनी धन पर बहुत अधिक निर्भर हो गए हैं और कहा सरकार को कई संस्थानों और कंपनियों में चीन पर ब्रिटेन की निर्भरता की तत्काल जांच करने की आवश्यकता है।

--आईएएनएस

एनपी/आरजेएस

Share this story