Top
Aap Ki Khabar

Diabetic diet Indian: खाने में करें ये बदलाव, सुगर होगा एकदम कंट्रोल में

What foods can diabetics eat freely मधुमेह के रोगियों को क्या खाना चाहिए। हमारा भारतीय शाकाहारी खाना संतुलित आहार है।

Diabetic diet Indian: खाने में करें ये बदलाव, सुगर होगा एकदम कंट्रोल में
X

Diabetic diet Indian: मधुमेह यानि कि डायबिटीज (diabetes) क्या है- जब किसी भी इन्सान के खून में शक्कर की मात्रा निर्धारित मापदंड से ज्यादा हो जाती है तो उसे डायबिटिक यानि कि मधुमेह बीमारी से ग्रसित कहा जाता है. अब सवाल यह है कि यह निर्धारित मात्रा क्या है? यह मापदंड समय समय पर बदलता रहता है. मधुमेह की बीमारी अगर बढ़ जाती है तो यह पूरे शरीर को खोखला करना शुरू कर देती है.

आयुर्वेद के अनुसार चार तरह के भोजन का असंतुलन से मधुमेह के मरीजों को नुकसान पहुँच सकता है. ज़्यादा गरिष्ठ भोजन, ज़्यादा घी-तेल से बना हुआ भोजन, ज़्यादा खट्टा भोजन, और ज़्यादा नमकीन भोजन। व्यायाम की कमी और तनावपूर्ण जीवन भी मधुमेह रोगियों के लिए उचित नहीं। तो मधुमेह के रोगी को भोजन में संतुलन लाने के लिए मधुर, खट्टा, और नमकीन (लवण) रस कम करना चाहिए और कड़वा (तिक्त रस), तीखा (कटु रस) और कषाय रस थोड़ा बढ़ाना चाहिए।

अब इस आयुर्वेद के ज्ञान को सरल भाषा में समझते हैं, जिससे रोज़मर्रा के जीवन में और खान पान में इसे उतार सकें।

वैसे तो किसी भी इंसान के लिए रोजाना में पौष्टिक खाना और नियमित कसरत ज़रूरी होती है लेकिन जब कोई बीमारी हो तो जीवन को सुचारू रूप से ही जीना ज़रूरी हो जाता है. आमतौर पर मधुमेह के लिए हमें हमारे भारतीय खाने में ज्यादा कुछ बदलाव करने की जरूरत नहीं है. यह बीमारी के प्रकार और इसकी तीव्रता पर भी निर्भर करता है कि आपके डॉक्टर आपको क्या सलाह देते हैं. यहाँ हम शाकाहारी भारतीय खाने के हिसाब से लिख रहे हैं तो कुछ चीजें जो खासतौर पर मधुमेह के रोगियों को मना की जाती हैं-




What foods to avoid with Diabetics

शक्कर

चावल (ख़ास तौर पर नया चावल)

आलू

घुइयाँ / अरबी

ज्यादा चिकनाई और तला हुआ खाना

What foods can diabetics eat freely

मधुमेह के रोगियों को क्या खाना चाहिए – हमारा भारतीय शाकाहारी खाना संतुलित आहार है। आप हरी सब्जी, रोटी, दाल, सलाद आदि खाएं। चावल और आलू हटा दें या कम कर दें। कोई अलग से खाना बनाने की जरूरत नहीं, ऐसा नहीं है कि आलू छू गया सब्जी में तो गुनाह हो गया। कुछ सुझाव रोजमर्रा के खाने के लिए।

खाना परोसते समय भी ध्यान दें - अगर घर पर सोया मेथी आलू की सब्जी बनी है तो बस ध्यान रखिये कि मधुमेह वाले आलू न लें और हरी सब्जी लें। वैसे आप मेथी को गाजर के साथ भी बना सकते हैं.

दाल जब बनायें तो इसमें तड़का कम घी में लगायें।

सलाद ज्यादा खाएं।

हरी सब्जियाँ ज्यादा खाएं। लौकी, परवल, कुंदरू अच्छे हैं. थोड़ी कड़वी और कसैली चीज़ें, जैसे कि करेला, मेथी, अदरक, हल्दी आदि का प्रयोग बढ़ाएँ।

थोड़े कड़वे और कसैले फल जैसे कि कैथा, आंवला, जामुन इत्यादि का प्रयोग बढ़ाएं।

दही को 2% या और कम वसायुक्त दूध से बनायें।

रोटी को गेहूं के आटे के स्थान पर अगर संभव हो तो जौ और चने के आटे से बनायें।

नए अनाज के स्थान पर पुराने अनाज का प्रयोग करें।

आयुर्वेद के अनुसार मधुमेह के रोगियों को किसी भी और अनाज के मुकाबले जौ का प्रयोग अधिक करना चाहिए. आयुर्वेद में जौ के आटे की रोटी, जौ का सत्तू, जौ का दलिया, जौ की खिचड़ी आदि को मधुमेह के लिए बहुत उत्तम बताया गया है.

फल का सेवन - डायबिटीज के मरीज को ताजा फल का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है। अगर किसी व्यक्ति को मधुमेह नहीं है तो भूख लगने पर फलो का सेवन कर सकता है। फलो का सेवन करने से डायबिटीज होने की आशंका कम हो जाती है। इसके अलावा मधुमेह से पीड़ित लोगो को ताजे फल खाने से शरीर स्वस्थ रहता है। मधुमेह के लोगो को फल में कीवी, केला, संतरा आदि का सेवन कर सकते है। यह सब फल का सेवन जरूर करवाएं।

हरी सब्जियों का सेवन - व्यक्ति को मधुमेह नहीं है तो भी वो यह सब सब्जिया खा सकता है। यह सब सब्जिया का सेवन करने से डायबिटीज होने का जोखिम कम रहता है। डायबिटीज के मरीज के लोगो को पालक, मटर, शिमला मिर्च, लौकी, प्याज, लहसुन व बैंगन आदि का सेवन कर सकते हैं। यह सब्जिया शरीर में शुगर के स्तर को नियंत्रित करती है।

डेयरी प्रोडक्ट का सेवन - मधुमेह के मरीज को कम फैट व बिना मलाई के दूध का सेवन करना चाहिए। इसके दही में नमक डालकर सेवन कर सकते है। आप पॉपकॉर्मन ले सकते है और डार्क चॉकलेट का एक पीस ले सकते है।

डायबिटीज के मरीज के लिए यह जानकारी होना बहुत जरुरी है की उनको अपने आहार क्या नहीं लेना चाहिए। ताकि शुगर को बढ़ने से रोका जा सके। इसके अलावा जीन लोगो को डायबिटीज नहीं है उनके लिए भी जानकारी रखना चाहिए।

अपने भोजन में नमक का उपयोग कम करें।

अधिक चीनी का सेवन न करे।

अधिक कॉफी पीने से परहेज करें।

तला या भुना हुआ पदार्थो का सेवन न करें।

शराब व धूम्रपान सेहत के लिए हानिकारक होते है इसलिए न करें।

चीनी युक्त कोल्ड्रिंक्स का सेवन न करें।

मधुमेह के रोगियों को शक्कर खास तौर पर मना होती है. यह आपकी बीमारी की तीव्रता पर निर्भर करता है कि आप के डॉक्टर ने आपको कितनी शक्कर खाने की इजाजत दी है. अगर आप रोजाना में अपने ऊपर ध्यान रखे हैं और आपकी शुगर आपकी दिनचर्या और खान पान से नियंत्रण में है तो आप कभी कभार थोडा बहुत मीठा खा सकते हैं. रिसर्च के अनुसार और ज्यादातर डॉक्टर्स के अनुसार अगर आपको खाना ही है तो कृत्रिम शक्कर के उत्पादों से बेहतर है कि आप सादा शक्कर ही प्रयोग में लायें. 4-6 दिन में अगर बहुत मन है तो हल्का मीठा खाएं. मीठा बनाने के लिए आप गुड़ या फिर खजूर का इस्तेमाल कर सकते हैं.

हमेशा अपने जीवनशैली के साथ बदलाव करने के साथ लोग अपने खान-पान में ध्यान नहीं देते है। इस वजह लोग अनेक तरह की बीमारियों के जोखिम से घीर जाते है। हालांकि शरीर में कुछ ऐसे भी रोग होते है जो कहने को तो मामूली होते है किंतु अधिक होने पर शरीर के लिए हानिकारक साबित होते है। मधुमेह एक ऐसा रोग है जो मनुष्य का साथ जिंदगीभर रहती है कभी साथ नहीं छोड़ती है केवल स्तर कम या अधिक होता रहता है। डायबिटीज के मरीजों को अपने खान-पान का बहुत ध्यान रखना पड़ता है उनको क्या कब लेना है क्या नहीं लेना है आदि। सही भोजन शुगर को नियंत्रित करने में मदद करता है। इस का विशेष ध्यान दे सभी चीजों का सही से पालन करेंगे तो डायबिटीज आपके ऊपर हावी नहीं होगा।

डायबिटीज के मरीजों को निराश होने की जरुरत नहीं है, क्योंकि बहुत से ऐसे खाद्य पदार्थ होते है जिनका सेवन कर सकते है। डायबिटीज के मरीज को भूख का एहसास होने पर कुछ न कुछ जरूर खाना चाहिए अपनी भूख नहीं मरना चाहिए। आप जब भी खाएं थोड़ा थोड़ा कर खाएं एक ही बार अधिक न खाएं। पुरे दिन आप फल का सेवन कर सकते है। इसके अलावा चीनी युक्त साम्रगी से दूर रहकर भोजन करे। चलिए आपको कुछ ऐसे भोजन के बारे में बताएंगे जिसका रोजाना करने पर अपने डायबिटीज को नियंत्रित कर सकते है और डायबिटीज को बढ़ने से रोक सकते है। इन भोजन में आपको पौष्टिक तत्व और खनिज की प्राप्ति होगी।

Next Story
Share it