Top
Aap Ki Khabar

Stomach gas pain home remedies: गैस से हमेशा के लिए छुटकारा

Stomach gas causes: पेट में गैस बनना आम बात हो गई है। दिनचर्या में ग़लत आदतों के कारण गैस बनने की समस्या होती रहती है।

Stomach gas pain home remedies: गैस से हमेशा के लिए छुटकारा
X

Stomach gas pain home remedies: आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग समय के अभाव के कारण बिना सोचे समझे कुछ भी खा लेते हैं जो कि आगे जाकर उनके लिए पेट से जुड़ी कई समस्याओं को जन्म देता है। पेट से जुड़ी इन समस्याओं में से पेट में गैस बनना एक आम समस्या बन गई है।

Stomach and gas pain: ऐसे में जब गैस बनता है तो व्यक्ति बाजार से दवाइयां लाकर खा लेता है। यह दवाइयां उस समय तो गैस को दबा देती हैं लेकिन बाद में दोबारा गैस की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसलिए अगर आप गैस को जड़ से खत्म करना चाहते हैं तो आप घरेलू उपचार को अपनाइए।

पेट में गैस बनाने के कारण और घरेलु उपाय -

Stomach gas causes: पेट में गैस बनना आजकल आम बात हो गई है कुछ खाने पर या दिनचर्या में ग़लत आदतों के कारण किसी ना किसी को गैस बनने की समस्या होती रहती है। आयुर्वेद में इस स्थिति को क्रॉनिक गैस्टिक कहा जाता है यह मुख्य रूप से पितृ दोष पड़ने के कारण होता है। भले ही गैस बनना या एसिडिटी होना कोई बड़ी बीमारी ना हो लेकिन अगर इसका इलाज़ समय रहते ना किया जाए तो यह अल्सर जैसी बीमारी का रूप धारण कर सकती है।




आमतौर पर पेट में गैस तब बनती है जब बैक्टीरिया इन कार्बोहाइड्रेट्स को उत्तेजित कर देते हैं जो छोटी आंत में ठीक से पच नहीं पाते। ऐसा ज्यादातर फाइबर युक्त आहार लेने से होता है। वैसे तो गैस की समस्या से बचने के लिए कई लोग दवाओं का सहारा लेते हैं। इसके बजाय अगर घरेलू उपायों को आजमाएँ जाए तो इस गंभीर समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा पाया जा सकता है |

पेट में गैस बनने के कारण - Causes of Stomach Gas in Hindi

पेट में गैस या अपच कोई बीमारी नहीं है बल्कि यह पाचन क्रिया का ही एक हिस्सा है। यह एक ऐसी स्थिति है जहाँ आपके पाचन तंत्र में अतिरिक्त गैस जमा हो जाती है। पेट में गैस बनने की समस्या से निपटने के लिए यह समझना ज़रूरी है कि ऐसा होता क्यों है पेट में गैस आपके पाचन तंत्र में दो तरह से जमा हो सकती है।

Home remedies for gas in stomach: आप भोजन करते समय या पानी पीते समय हवा को निगलते हैं। जिससे ऑक्सीजन और नाइट्रोजन आपके शरीर में प्रवेश करती है। दूसरा महत्त्वपूर्ण कारण है जब आप भोजन को पचाने हैं तब हाइड्रोजन मीथेन और कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैसें उत्सर्जित होती हैं और पेट में जमा हो जाती हैं।

यदि यह ज़्यादा मात्रा में है तो यह बहुत ही असुविधा पैदा कर सकती है। पेट में गैस या अपच होना काफ़ी कुछ आपके दैनिक भोजन विकल्पों पर भी निर्भर करता है। खासतौर पर स्वयं पत्ता गोभी छोले या दाल जैसे खाद्य पदार्थ आसानी से नहीं बच पाते हैं। यह वृत्तांत से होकर गुजरती हैं, जिसमें बहुत सारे बैक्टीरिया होते हैं जो गैसों को जारी करते समय भोजन को तोड़ने में मदद करते हैं, जिससे आप असहज महसूस कर सकते हैं। कुछ मामलों में गैस गुदा से होकर गुजरती है और उसमें मौजूद बैक्टीरिया सल्फर मिलाते हैं, जिससे गैस में गंध बढ़ जाती है।

Positions to relieve gas: गैस पाचन प्रक्रिया का एक सामान्य हिस्सा है लेकिन अगर गैस आपकी आंतो में जमा हो जाए तो आप इसे निकल नहीं पाते इससे आपको दर्द और तकलीफ होने लगती है। गैस आपके लिए दर्द सूजन कब्ज या पेट फूलने का कारण बन सकती है।

पेट में गैस के लक्षण - Symptoms of Stomach Gas Problem in Hindi

गैस समस्या के लक्षणों में हल्की जलन से लेकर तेज दर्द तक शामिल है। पेट में गैस के अन्य लक्षण भी हो सकते हैं। जैसे की भूख ना लगना, बदबूदार सांसे, डकार आना, उल्टी या दस्त, पेट फूलना, पेट के दाहिनी ओर दर्द होना, बेचैनी होना इत्यादि।

How to get rid of gas immediately: पेट की गैस की समस्या से बचने के लिए दवा लेना सही है लेकिन इससे समस्या जड़ से ख़त्म नहीं होगी इसके लिए अच्छा है कि आप घरेलू उपायों को आजमाएँ। इसके दो फायदे हैं एक तो यह आपके घर में ही मौजूद है जिससे आपका जेब ख़र्च नहीं बढ़ेगा। वहीं अन्य दवाओं की तरह इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है।

पेट के गैस दूर करने के घरेलु उपाय - Home Remedies for Stomach Gas in Hindi

पेट की गैस को भगाने के कुछ असरदार घरेलू उपायों के बारे में सबसे पहले तो यह जान लीजिए कि अगर आप गैस बनने की समस्या से परेशान हैं तो खाना धीरे-धीरे चबाकर खाने की आदत डालें। आयुर्वेद के अनुसार आपके खाने का तरीक़ा उतना ही मायने रखता है, जितना कि आप खाते हैं। इसलिए भोजन को धीरे-धीरे चबा-चबा कर खाएँ। जल्दी-जल्दी भोजन खाने से शरीर में सूजन या गैस की समस्या पैदा होती है। हर बाइट को धीरे-धीरे चबाएँ यह आपके पाचन को सही करने के लिए चमत्कारिक साबित हो सकता है।




1. अजवाइन -

Foods that prevent gas: आयुर्वेद में अजवाइन को बहुत असरदार बताया गया है। पेट की गैस के लिए अजवाइन बहुत अच्छा आयुर्वेदिक उपचार है। अगर आपके पेट में गैस बनती है तो गर्म पानी के साथ एक चम्मच अजवाइन ले। इससे एसिडिटी से तुरंत राहत मिल जाएगी। दरअसल अजवाइन में थाइमोल नामक एक यौगिक होता है जो पाचन में आपकी मदद करता है। अगर आपको गैस की समस्या अक्सर रहती है तो आप रोजाना दिन में कभी भी एक बार इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। आप पहले से बेहतर महसूस करेंगे।

2. जीरे का पानी -

जीरे का पानी गैस की समस्या को जड़ से ख़त्म करने का सबसे अच्छा आयुर्वेदिक उपाय है। अगर आप पेट की गैस से राहत पाना चाहते हैं, तो एक चम्मच जीरा को दो कप पानी में 10 से 15 मिनट के लिए उबालें। इसे ठंडा होने दें और खाना खाने के बाद इस पानी को पिये। ऐसा करने से पेट में गैस की समस्या का समाधान जल्दी हो जाएगा। आपके किचन में मौजूद ही गैस की समस्या से निपटने के लिए रामबाण इलाज़ है।

3. हींग -

पेट में गैस बनने पर आधा चम्मच हींग को गर्म पानी के साथ मिलाएँ और पी लें। यह एक एंटीप्लेटलेट के रूप में कार्य करता है, जो पेट में अतिरिक्त गैस उत्पन्न करने वाले आंत बैक्टीरिया के विकास को रोकता है।

4. अदरक -

पेट में गैस की समस्या से बचने के लिए एक चम्मच ताज़ा अदरक को पीस लें और इसे एक चम्मच नींबू के रस के साथ खाना खाने के बाद ले। आपको बता दें कि अदरक एक नेचुरल कार्मिनेटिव के रूप में यानी कि पेट फूलने से राहत पाने के लिए कार्य करता है। इसलिए पेट के गैस से बचने के लिए अपनी दिनचर्या में आप अदरक का इस्तेमाल कर सकते हैं।

5. बेकिंग पाउडर -

नींबू का रस और बेकिंग पाउडर: पेट में बनने वाली ज़्यादा गैस को कम करने के लिए नींबू का रस और बेकिंग सोडा एक सरल-सा उपाय है। गैस की समस्या से राहत पाने के लिए एक चम्मच नींबू का रस और आधा चम्मच बेकिंग पाउडर को एक कप पानी में घोल ले और खाना खाने के बाद इसे पिए। बता दें कि यह कार्बन डाइऑक्साइड बनाने में आपकी मदद करता है जिससे पाचन प्रक्रिया भी सुगम बनती है।

6. त्रिफला -

जब भी आपको गैस की शिकायत हो, आधा चम्मच त्रिफला को पानी में 5 से 10 मिनट के लिए भिगोये और सोने से पहले पी लें। इस मिश्रण के सेवन की मात्रा का बेहद ध्यान रखें क्योंकि इसमें हाई फाइबर होता है। अगर आप इसे अधिक मात्रा में लेते हैं तो यह सूजन का भी कारण बन सकता है।

पेट के रोगों के लिए योग:

वज्रासन

खाना खाने के बाद कम से कम 5 मिनट वज्रासन में बैठने से पेट की गैस बाहर निकाल जाती है। इस आसन में बैठने से पाचन तंत्र में रक्त संचार बढ़ जाता है। जिससे भोजन पचने में मदद मिलती है। भोजन का पाचन सुचारू रूप से होने के कारण पेट में गैस की समस्या नहीं होती है।




पश्चिमोत्तासन

इस आसन को करने से खाना पचने में मदद मिलती है।




पवनमुक्तासन

इस आसन को करने से भोजन पचने में मदद मिलती है। इस आसन को करने से पेट की गैस आसानी से बाहर निकल जाती है।




अर्धमत्स्येन्द्र आसन

इस आसन को करने से पाचन तंत्र में ओक्सीजन का संचार बढ़ जाता है। जिससे पाचन क्रिया में लाभ होता है। फलस्वरूप पेट में गैस बनने की समस्या नहीं होती है।





Next Story
Share it