अधिकांश भारतीय चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे को पद छोड़ देना चाहिए- सर्वे

अधिकांश भारतीय चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे को पद छोड़ देना चाहिए- सर्वे
अधिकांश भारतीय चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे को पद छोड़ देना चाहिए- सर्वे नई दिल्ली, 24 जून (आईएएनएस)। महाराष्ट्र में शिवसेना के वरिष्ठ नेता एकनाथ शिंदे की बगावत के साथ शुरू हुआ हाई वोल्टेज सियासी ड्रामा गुरुवार को भी जारी रहा।

शिंदे गुट की बढ़ती ताकत ने महाराष्ट्र विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार को टूट के कगार पर खड़ा कर दिया है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को राज्य के नाम भावनात्मक संबोधन के बाद अपना सरकारी आवास खाली कर दिया।

ठाकरे ने अपने संबोधन में कहा कि अगर बागी विधायक उनसे कहते हैं कि वे नहीं चाहते कि वह राज्य सरकार के मुखिया बने रहें, तो वह पद छोड़ने के लिए तैयार हैं। उन्होंने बागी विधायकों से अपील की कि वे वापस आएं और इस मुद्दे पर उनसे आमने-सामने चर्चा करें।

जैसा कि मीडिया रिपोटरें ने दावा किया कि शिंदे के गुट की ताकत 45 विधायकों तक पहुंच गई है। पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने पेशकश की कि यदि सभी विधायक कहते हैं तो पार्टी एमवीए गठबंधन से अलग होने को तैयार है।

सत्तारूढ़ एमवीए गठबंधन का नेतृत्व करने वाली शिवसेना के पास वर्तमान में 55 विधायक हैं। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (नेकां) में 53 विधायक हैं और कांग्रेस पार्टी 44 विधायकों के साथ एमवीए गठबंधन के अन्य दल हैं। महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्षी भाजपा के 106 विधायक हैं और कुल 288 सदस्य हैं।

चूंकि महाराष्ट्र में राजनीतिक स्थिति में उतार-चढ़ाव जारी है, सीवोटर-इंडियाट्रैकरने इस मुद्दे पर लोगों की राय जानने के लिए आईएएनएस की ओर से एक राष्ट्रव्यापी सर्वे किया।

सर्वे के दौरान, अधिकांश उत्तरदाताओं, 60 प्रतिशत ने राय दी कि ठाकरे को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए, जबकि 40 प्रतिशत ने इस भावना को साझा नहीं किया।

दिलचस्प बात यह है कि राजग के 73 प्रतिशत मतदाताओं ने ठाकरे के राज्य सरकार के प्रमुख के पद से हटने के पक्ष में बात की, लेकिन इस मुद्दे पर विपक्षी समर्थकों के विचार विभाजित थे।

विपक्षी मतदाताओं में, जहां 52 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि ठाकरे को मुख्यमंत्री बने रहना चाहिए, वहीं 48 प्रतिशत ने उनके इस्तीफे की मांग की।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, शहरी मतदाताओं के बहुमत- 64 प्रतिशत और ग्रामीण वोटों के एक बड़े हिस्से- 56 प्रतिशत ने ठाकरे के पद छोड़ने के पक्ष में बात की।

सर्वे में इस मुद्दे पर विभिन्न सामाजिक समूहों की राय में अंतर का पता चला। सर्वे के दौरान, उच्च जाति हिंदुओं (यूसीएच) के 70 प्रतिशत, अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) 66 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति (एसटी) 60 प्रतिशत ने ठाकरे के इस्तीफे के पक्ष में राय व्यक्त की, जबकि अधिकांश मुसलमानों के विचार, 75 प्रतिशत- इस विचार के पूरी तरह से खिलाफ थे।

इस मुद्दे पर अनुसूचित जाति (एससी) के उत्तरदाताओं के विचार विभाजित थे।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, जहां अनुसूचित जाति के 55 प्रतिशत मतदाताओं ने ठाकरे के इस्तीफा देने के विचार का समर्थन किया, वहीं 45 प्रतिशत इस भावना से सहमत नहीं थे।

सर्वे में आगे बताया गया है कि उत्तरदाताओं का एक बड़ा हिस्सा, 33 प्रतिशत- का मानना था कि राजनीतिक वर्चस्व के लिए पार्टी की अंदरूनी कलह शिंदे और उनके गुट द्वारा ठाकरे के खिलाफ विद्रोह करना मुख्य कारण है।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, जहां 26 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि शिवसेना के भीतर विद्रोह एनसीपी और कांग्रेस के साथ पार्टी के गठबंधन के कारण हुआ, वहीं 24 प्रतिशत ने कहा कि ठाकरे का कमजोर नेतृत्व विद्रोह का प्रमुख कारण है।

वहीं, 16 प्रतिशत उत्तरदाताओं के अनुसार, हिंदुत्व पर मतभेदों ने पार्टी के भीतर विद्रोह को जन्म दिया।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, एनडीए के सबसे बड़े 29 प्रतिशत मतदाताओं ने कहा कि विद्रोह इसलिए हुआ, क्योंकि विधायक पार्टी द्वारा एनसीपी और कांग्रेस के साथ गठबंधन करने से नाराज हैं।

सर्वे के दौरान, जबकि एनडीए समर्थकों के 27 प्रतिशत के एक अन्य ब्लॉक ने विद्रोह के लिए ठाकरे के कमजोर नेतृत्व को दोषी ठहराया, उनमें से 25 प्रतिशत ने कहा कि राजनीतिक वर्चस्व की लड़ाई पार्टी विधायकों द्वारा विद्रोह का कारण बनी।

एनडीए के 19 प्रतिशत समर्थकों के अनुसार, हिंदुत्व पर मतभेदों ने विद्रोह को प्रेरित किया।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, विपक्षी समर्थकों- 40 प्रतिशत ने कहा कि शिंदे की राजनीतिक महत्वाकांक्षा और राजनीतिक वर्चस्व की लड़ाई विद्रोह का प्रमुख कारण है, उनमें से 24 प्रतिशत ने कहा कि एनसीपी के साथ गठबंधन के खिलाफ नाराजगी और कांग्रेस ने पार्टी विधायकों द्वारा विद्रोह किया गया।

वहीं, जहां 21 फीसदी विपक्षी मतदाताओं का मानना है कि ठाकरे के कमजोर नेतृत्व ने पार्टी के विधायकों को विद्रोह के लिए प्रोत्साहित किया, वहीं हिंदुत्व को लेकर खेमे के 15 फीसदी उत्तरदाताओं ने पार्टी के भीतर विद्रोह को जन्म दिया।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

Share this story