आंध्र में आत्मकुर उपचुनाव के लिए मतदान जारी

आंध्र में आत्मकुर उपचुनाव के लिए मतदान जारी
आंध्र में आत्मकुर उपचुनाव के लिए मतदान जारी अमरावती, 23 जून (आईएएनएस)। आत्मकुर विधानसभा सीट पर गुरुवार को उपचुनाव के लिए मतदान जारी है।

नेल्लोर जिले के सभी 279 मतदान केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ और शाम छह बजे तक चलेगा।

1,07,367 महिलाओं और 1,05,960 पुरुषों सहित कुल 2,13,327 मतदाता निर्वाचन क्षेत्र में अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए पात्र हैं।

चुनाव अधिकारियों ने व्यापक इंतजाम किए हैं। एक अधिकारी ने कहा कि मतदान केंद्रों पर 377 इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) लगाई गई हैं।

मतदान के दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा था। प्रशासन ने सभी बूथों पर महिलाओं के लिए अलग कतार की व्यवस्था की है।

चुनाव आयोग ने 1,409 मतदान कर्मियों को तैनात किया है। शांतिपूर्ण और सुचारु मतदान सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा व्यवस्था के तहत 1,100 से अधिक पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था।

नेल्लोर के पुलिस अधीक्षक विजया राव ने कहा कि संवेदनशील के रूप में पहचाने गए 123 मतदान केंद्रों के लिए त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

इस साल फरवरी में उद्योग मंत्री एम. गौतम रेड्डी के निधन के कारण उपचुनाव कराना पड़ा था।

सत्तारूढ़ वाईएसआर कांग्रेस पार्टी (वाईएसआरसीपी) ने गौतम रेड्डी के भाई एम. विक्रम रेड्डी को मैदान में उतारा है और वह प्रबल पसंदीदा हैं।

कुल 14 प्रत्याशी मैदान में हैं। इनमें भाजपा के जी. भरत कुमार शामिल हैं, जो नेल्लोर जिला भाजपा इकाई के अध्यक्ष हैं।

मुख्य विपक्षी दल तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) ने उपचुनाव नहीं लड़ने की अपनी परंपरा के अनुरूप उम्मीदवार नहीं उतारा है, जहां मृतक विधायक के परिवार का एक सदस्य सार्वजनिक जनादेश की मांग कर रहा है।

भाजपा की सहयोगी पवन कल्याण के नेतृत्व वाली जन सेना पार्टी (जेएसपी) भी उपचुनाव से दूर है।

भाजपा उपचुनाव अपने सैद्धांतिक रुख के अनुरूप लड़ रही है, ताकि एक पदाधिकारी के निधन पर चुनाव को निर्विरोध छोड़कर विरासत की राजनीति को प्रोत्साहित न किया जा सके।

भाजपा के स्टार प्रचारक दग्गुबाती पुरंदेश्वरी, जी.वी.एल. नरसिम्हा राव, वाई सत्यकुमार, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सोमू वीरराजू और अन्य ने पार्टी उम्मीदवार के लिए प्रचार किया।

भारी जीत के प्रति आश्वस्त वाईएसआरसीपी ने कुछ मंत्रियों और विधायकों को चुनावी प्रचार के लिए तैनात किया था। सत्तारूढ़ दल ने एक लाख वोटों का बहुमत हासिल करने के लिए चुनावी रणनीति तैयार की है।

2019 के चुनाव में गौतम रेड्डी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी तेदेपा के बोलिनेनी कृष्णय्या को 22,000 से अधिक मतों के अंतर से हराया था। वाईएसआरसीपी उम्मीदवार ने 2014 में भी टीडीपी के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी जीएम कन्ना बाबू के खिलाफ 31,000 से अधिक मतों के बहुमत के साथ सीट जीती थी।

--आईएएनएस

एसजीके

Share this story