आईआईटी: प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में 4 साल की बीएस डिग्री

आईआईटी: प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में 4 साल की बीएस डिग्री
आईआईटी: प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में 4 साल की बीएस डिग्री नई दिल्ली, 2 अगस्त (आईएएनएस)। आईआईटी मद्रास ने प्रोग्रामिंग और डेटा साइंस में बीएससी के साथ अब डेटा साइंस और एप्लिकेशन में चार साल की बीएस डिग्री का विकल्प दिया है। पूरे देश के विद्यार्थियों में इसकी काफी मांग है। बीएस स्तर पर विद्यार्थी, कंपनियों या शोध संस्थानों में 8 महीनों की अप्रेंटिसशिप या प्रोजेक्ट कर भी सकते हैं। यह यूनिक प्रोग्राम इस तरह डिजाइन किया गया है कि विद्यार्थियों को कई बार प्रवेश और निकास का विकल्प मिले।

यह कोर्स सर्टिफिकेट, डिप्लोमा या डिग्री प्राप्त करने और विद्यार्थियों को उनके हिसाब से कोर्स करने की सुविधा देता है। वर्तमान में कक्षा 12 के विद्यार्थी भी प्रोग्राम के लिए आवेदन और प्रवेश सुरक्षित कर सकते हैं। प्रवेश प्राप्त करने के बाद कक्षा 12 की पढ़ाई सफलतापूर्वक पूरा कर विद्यार्थी प्रोग्राम के तहत कोर्स शुरू कर पाएंगे। किसी भी स्ट्रीम के विद्यार्थी नामांकन करा सकते हैं। इसके लिए कोई आयु सीमा भी नहीं है। कक्षा 10 में अंग्रेजी और गणित की पढ़ाई करने वाला कोई भी व्यक्ति आवेदन कर सकता है। कक्षाएं ऑनलाइन होंगी इसलिए कोई भौगोलिक सीमा भी नहीं है।

वर्तमान में 13,000 से अधिक विद्यार्थी प्रोग्राम में नामांकित हैं। इनमें सबसे अधिक तमिलनाडु फिर महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के विद्यार्थी हैं। प्रवेश परीक्षा में व्यक्तिगत उपस्थिति चाहिए। यह भारत के 111 शहरों में 116 परीक्षा केंद्रों में होती है। यूएई, बहरीन, कुवैत और श्रीलंका में भी परीक्षा केंद्र खोले गए हैं।

डेटा साइंस प्रोग्राम के सितंबर 2022 टर्म के लिए 19 अगस्त 2022 तक आवेदन कर सकते हैं। इच्छुक विद्यार्थी वेबसाइट के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।

प्रोग्राम के बारे में आईआईटी मद्रास के निदेशक प्रो. वी. कामकोटी ने बताया, आईआईटी मद्रास को डेटा साइंस और एप्लिकेशन डिग्री में अच्छी तरह डिजाइन किए बीएस शुरू करने की खुशी है। इससे पूरे देश के विद्यार्थियों को आईआईटी की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुलभ होगी। डेटा साइंस उन विषयों में से एक है जो तेजी से उभर रहे हैं। यह एक ऐसे क्षेत्र में बहुत रोजगारोन्मुखी प्रोग्राम है जहां कुशल संसाधनों की मांग अधिक है।

डेटा साइंस के छात्रों को डेटा प्रबंधन, प्रबंधन की गहरी सूझबूझ के लिए पैटर्न की कल्पना, मॉडल की अनिश्चितताओं और प्रभावी व्यावसायिक निर्णय लेने के पूवार्नुमान में सहायक मॉडल तैयार करना सिखाया जाएगा।

नई पहल करने की विभिन्न वजह बताते हुए आईआईटी मद्रास में डेटा साइंस एंड एप्लिकेशन में बीएस के प्रोफेसर इन-चार्ज प्रोफेसर एंड्रयू थंगराज ने कहा, डेटा साइंस में विभिन्न विषय परस्पर जुड़े होते हैं इसलिए आईआईटी मद्रास से बीएस की डिग्री लेने का अवसर सभी पृष्ठभूमि के छात्रों को है। वाणिज्य या मानविकी पढ़ने वाले छात्र भी आईआईटी मद्रास से डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। पाठ्य सामग्री ऑनलाइन उपलब्ध कराई जाती है और व्यक्तिगत परीक्षा रविवार को होती है इसलिए यह डिग्री कोई अन्य ऑन-कैंपस डिग्री लेने या पूर्णकालिक रोजगार करने के दौरान भी प्राप्त की जा सकती है।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story