आईसीएमआर ने डिमेंशिया के रोगियों के लिए मुद्रा टूलबॉक्स विकसित किया

आईसीएमआर ने डिमेंशिया के रोगियों के लिए मुद्रा टूलबॉक्स विकसित किया
आईसीएमआर ने डिमेंशिया के रोगियों के लिए मुद्रा टूलबॉक्स विकसित किया नई दिल्ली, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने एक बहुभाषी डिमेंशिया रिसर्च एंड असेसमेंट (मुद्रा) टूलबॉक्स विकसित किया है, जिसमें ध्यान और कार्यकारी कार्य, स्मृति, भाषा और नेत्र संबंधी कार्य जैसे अनुभूति के विभिन्न क्षेत्रों का आकलन करने के लिए प्रश्नावली और विभिन्न संज्ञानात्मक परीक्षण शामिल हैं।

मुद्रा उपकरण को क्लिनिक और अनुसंधान में उपयोग के लिए पांच अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध कराया गया है।

मुद्रा टूलबॉक्स भारत के सात प्रमुख केंद्रों - निमहांस (बैंगलोर), एम्स (नई-दिल्ली), एससीटीआईएमएसटी (त्रिवेंद्रम), निम्स (हैदराबाद), अपोलो अस्पताल (कोलकाता), मणिपाल अस्पताल (बैंगलोर) और जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज द्वारा एक सामूहिक प्रयास है।

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने बुधवार को मुद्रा टूलबॉक्स जारी किया और कहा, मान्य बहुभाषी डिमेंशिया रिसर्च एंड असेसमेंट (मुद्रा) टूलबॉक्स अब विभिन्न भारतीय भाषाओं - हिंदी, बंगाली, तेलुगू, कन्नड़ और मलयालम में उपलब्ध है।

उन्होंने कहा कि यह देश में एक समान, मानकीकृत डिमेंशिया अनुसंधान करने के लिए महत्वपूर्ण है। टूल बॉक्स में संज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों जैसे कि ध्यान और कार्यकारी कार्य, स्मृति, भाषा और नेत्र संबंधी कार्यों का आकलन करने के लिए विभिन्न संज्ञानात्मक परीक्षण शामिल हैं।

डॉ. भार्गव ने कहा कि प्रश्नावली अवसाद, कार्यक्षमता, जीवन की गुणवत्ता, न्यूरोसाइकिएट्रिक लक्षणों की व्यापकता और बुजुर्गों में संज्ञानात्मक गिरावट पर मुखबिर प्रश्नावली का आकलन करती है।

--आईएएनएस

एसजीके/

Share this story