आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहायता के लिए मोजाम्बिक ने भारत के प्रति जताया आभार

आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहायता के लिए मोजाम्बिक ने भारत के प्रति जताया आभार
आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में सहायता के लिए मोजाम्बिक ने भारत के प्रति जताया आभार नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)। मोजाम्बिक गणराज्य की असेंबली की स्पीकर एस्पेरंका लॉरिन्डा फ्रांसिस्को नाहीवने बायस ने अपने देश में आतंकवाद से मुकाबले में सहायता के लिए भारत के प्रति आभार व्यक्त किया है।

संसद भवन परिसर में लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला के साथ बैठक और दोनों देशों की संसद के बीच सहयोग के ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के दौरान मोजाम्बिक गणराज्य की असेंबली स्पीकर ने मोजाम्बिक में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के समर्थन की सराहना करते हुए कहा कि भारत का निरंतर समर्थन शांति बनाए रखने में मोजाम्बिक की मदद कर रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि दोनों देशों के नेताओं के नियमित दौरों से देशों और संसदों के बीच द्विपक्षीय संबंध और मजबूत होंगे।

आपको बता दें कि, भारतीय संसद के निमंत्रण पर मोजाम्बिक गणराज्य की असेंबली का एक संसदीय शिष्टमंडल भारत के तीन दिवसीय दौरे पर आया हुआ है। संसद भवन परिसर में इस शिष्टमंडल का स्वागत करते हुए लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बायस को भारत के नए राष्ट्रपति के निर्वाचन एवं शपथ ग्रहण के तुरंत बाद संसद आगमन पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि बायस राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से मिलने वाले पहले अंतरराष्ट्रीय विशिष्टजनों में से एक होंगी।

दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की चर्चा करते हुए बिरला ने कहा कि मोजाम्बिक के संसदीय शिष्टमंडल की भारत यात्रा से दोनों देशों के बीच संसदीय सहयोग के नए युग का आरंभ हुआ है। उन्होंने वर्ष 2023-24 के कार्यकाल के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अस्थायी सीट हेतु चुनावों में मोजाम्बिक की सफलता पर बधाई भी दी।

भारत और मोजाम्बिक के बीच ऐतिहासिक रूप से घनिष्ठ एवं मैत्रीपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों का जिक्र करते हुए बिरला ने कहा कि दोनों देशों के बीच नियमित रूप से उच्च स्तरीय दौरे होते रहे हैं। मोजाम्बिक भारत के लिए एक रणनीतिक साझेदार और घनिष्ठ व्यापारिक सहयोगी है। पिछले वर्षों में दोनों देशों के बीच व्यापार में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है तथा भारतीय कंपनियों ने मोजाम्बिक के एलएनजी और खनन क्षेत्रों में भारी निवेश किया है। मार्च 2019 में मोजाम्बिक में आए चक्रवात इडाई के बाद भारत की तत्पर सहायता दोनों देशों के मैत्रीपूर्ण सम्बन्धों का महत्वपूर्ण उदहारण है। उन्होंने कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए भारत द्वारा मोजाम्बिक को वैक्सीन के साथ-साथ मास्क, सैनिटाइजर, पीपीई किट आदि सामग्रियों के रूप में भी सहायता का उल्लेख करते हुए भारतीय प्रवासियों की मोजाम्बिक के सर्वांगीण विकास में सकारात्मक भूमिका की सराहना भी की।

ओम बिरला और बायस ने एक सहयोग ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किया, जिसका उद्देश्य समानता, लाभों की पारस्परिकता और पारस्परिक सम्मान के सिद्धांतों के आधार पर भारत और मोजाम्बिक की संसदों के बीच संबंधों को विकसित करना है, और संसदीय हित के मामलों पर एक दूसरे से परामर्श करना है।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम

Share this story