इंदौर लगातार 5वीं बार बना देश का सबसे स्वच्छ शहर, छत्तीसगढ़ को मिला देश के सबसे स्वच्छ राज्य का पुरस्कार

इंदौर लगातार 5वीं बार बना देश का सबसे स्वच्छ शहर, छत्तीसगढ़ को मिला देश के सबसे स्वच्छ राज्य का पुरस्कार
इंदौर लगातार 5वीं बार बना देश का सबसे स्वच्छ शहर, छत्तीसगढ़ को मिला देश के सबसे स्वच्छ राज्य का पुरस्कार नई दिल्ली, 20 नवंबर (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश के इंदौर शहर को लगातार पांचवी बार देश के सबसे स्वच्छ शहर का अवार्ड मिला है। वहीं राज्यों की कैटेगरी में स्वच्छता के मामले में छत्तीसगढ़ को लगातार तीसरी बार देश के सबसे स्वच्छ राज्य का अवार्ड मिला है। गंगा टाउन कैटेगरी के अंतर्गत वाराणसी को देश के सबसे स्वच्छ गंगा शहर का खिताब मिला है।

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश के सबसे स्वच्छ राज्य का खिताब छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दिया। वर्ष 2019 एवं 2020 में भी स्वच्छता के मामले में छत्तीसगढ़ देश का सबसे अग्रणी राज्य था। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य सरकार की पूरी टीम और राज्य के लोगों की मेहनत को इस पुरस्कार का श्रेय दिया और बधाई दी।

स्वच्छ सर्वेक्षण -2021 के अंतर्गत स्वच्छता के मामले में लगातार पांचवी बार मध्य प्रदेश के इंदौर शहर को नंबर वन शहर का अवार्ड मिला है। इसके साथ ही इंदौर को कचरा मुक्त शहर की स्टार रेटिंग और सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज अवार्ड भी मिला है। इस सर्वेक्षण के मुताबिक गुजरात का सूरत देश का दूसरा सबसे अधिक स्वच्छ शहर है जबकि आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा को तीसरे सबसे स्वच्छ शहर का खिताब मिला है। आपको बता दें कि स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 के लिए देश भर में 5 करोड़ से ज्यादा लोगों का फीडबैक लिया गया है।

विजेताओं को पुरस्कार देने के बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वच्छता के मामले में किए जा रहे प्रयासों को लेकर सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि स्वच्छता को लेकर देशवासियों की सोच में आया बदलाव इस अभियान की सबसे बड़ी सफलता है। उन्होंने सफाई को लेकर छठ महापर्व की तारीफ करते हुए कहा कि अब बच्चे भी बड़े लोगों को गंदगी फैलाने से रोकने लगे हैं। उन्होंने सरकार द्वारा चलाए जा रहे सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज की तारीफ करते हुए सलाह दी कि सीवरों और सेप्टिक टैंक की मशीन द्वारा सफाई की सुविधा देश के सभी शहरों में शुरू की जानी चाहिए, क्योंकि मनुष्य द्वारा मैला ढोना एक शर्मनाक प्रथा है और इसे रोकने की जिम्मेदारी समाज और सरकार दोनों की है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने स्वच्छ अमृत महोत्सव के अंतर्गत स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 , कचरा मुक्त शहरों के लिए स्टार रेटिंग और सफाई मित्र सुरक्षा चैलेंज की कैटेगरी में भी शहरों को सम्मानित किया। 2016 में 73 शहरों के मुकाबले 2021 में स्वच्छ सर्वेक्षण में देश के 4,320 शहरों ने भाग लिया था। इनमें से 342 शहरों को स्टार रेटिंग के तहत प्रमाणपत्र दिया गया है।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम

Share this story