ईडी के खिलाफ सदन में जोरदार हंगामा- डीएमके और एनसीपी दे रही है कांग्रेस का साथ, लेकिन शांत हैं टीएमसी के सांसद

ईडी के खिलाफ सदन में जोरदार हंगामा- डीएमके और एनसीपी दे रही है कांग्रेस का साथ, लेकिन शांत हैं टीएमसी के सांसद
ईडी के खिलाफ सदन में जोरदार हंगामा- डीएमके और एनसीपी दे रही है कांग्रेस का साथ, लेकिन शांत हैं टीएमसी के सांसद नई दिल्ली, 4 अगस्त (आईएएनएस)। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पिछले कुछ वर्षों के दौरान विपक्ष की ऐसी नेता के रूप में उभरी हैं जो आगे बढ़कर मोदी सरकार से हर मोर्चें पर सीधी टक्कर ले रही है। यहां तक कि राष्ट्रपति चुनाव के मामले में भी विपक्ष की तरफ से साझा उम्मीदवार खड़ा करने की प्रक्रिया और विचार-विमर्श की शुरूआत ममता बनर्जी ने ही की थी और उन्होने अपनी ही पार्टी के नेता यशवंत सिन्हा को विपक्षी दलों की तरफ से साझा उम्मीदवार भी बना दिया था। ममता बनर्जी और उनकी पार्टी टीएमसी जांच एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर भी मोदी सरकार पर लगातार हमला बोलती रही है, लेकिन ईडी के खिलाफ संसद में मचे हंगामे पर ममता के सांसद बिल्कुल शांत और अलग-थलग ही नजर आ रहे हैं।

गुरुवार को भी कांग्रेस के सांसदों ने जांच एजेंसी ईडी के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए लोक सभा में जमकर हंगामा किया और सदन की कार्यवाही तक नहीं चलने दी। कांग्रेस सांसदों के हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही को पहले दो बजे तक के लिए और फिर बाद में पूरे दिन के लिए स्थगित करना पड़ा।

ईडी के दुरुपयोग को लेकर लोक सभा मे कांग्रेस सांसदों के हंगामे और नारेबाजी में डीएमके और एनसीपी के सांसदों ने पूरी तरह से कांग्रेस का सांसद दिया। डीएमके सांसद कनिमोझी और ए.राजा सहित पार्टी के अन्य सांसद लोक सभा में कांग्रेस सांसदों के सुर में सुर मिलाकर नारेबाजी करते, शोर मचाने के लिए ताली बजाते और टेबल थपथपाते नजर आए। एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने भी जमकर कांग्रेस का साथ दिया। लेकिन इस पूरे हंगामे के बीच सदन में मौजूद रहने के बावजूद टीएमसी के सांसद पूरी तरह से शांत बैठे नजर आए।

यहां तक कि एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने सदन में बैठे टीएमसी के वरिष्ठ सासंद के पास जाकर यह अनुरोध भी किया कि वो हंगामे और नारेबाजी में उनका साथ दें, लेकिन इसके बावजूद टीएमसी के सांसद अपनी-अपनी सीट पर शांत बैठे रहें।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम

Share this story