ईडी व महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस का संसद से विजय चौक तक प्रदर्शन

ईडी व महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस का संसद से विजय चौक तक प्रदर्शन
ईडी व महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस का संसद से विजय चौक तक प्रदर्शन नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)। सोनिया गांधी से ईडी नेशनल हैराल्ड मामले में तीसरे दौर की पूछताछ कर रही है। इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने संसद में गांधी प्रतिमा पर प्रदर्शन किया। वहीं विजय चौक पर तमाम नेता सत्याग्रह कर रहे हैं। कांग्रेस की मांग है कि, संसद पर सरकार महंगाई, जीएसटी व अन्य मुद्दों पर चर्चा करे।

कांग्रेस के नेता संसद के गेट नंबर एक पर प्रदर्शन करने के बाद विजय चौक पहुंचे। राहुल गांधी ने कहा, सिलेंडर 1053 रुपये का क्यों? दही-अनाज पर जीएसटी क्यों? सरसों का तेल 200 रुपये क्यों? महंगाई और बेरोजगारी पर सवाल पूछने के अपराध में राजा ने 57 सांसदो को गिऱफ्तार और 23 सांसदों को निलंबित किया। राजा को लोकतंत्र के मंदिर में सवाल से डर लगता है, पर तानाशाहों से लड़ना हमें बखूबी आता है।

कांग्रेस के सभी सांसदों ने गांधी प्रतिमा पर खड़े होकर प्रदर्शन किया, वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने काले रंग का साफा पहन अपना विरोध दर्ज कराया। साथ ही कांग्रेस के निलंबित चार सांसदों ने गेट नंबर एक पर प्रदर्शन किया।

इससे पहले मंगलवार को ईडी की कार्रवाई के खिलाफ राहुल गांधी के नेतृत्व में सभी नेता विजय चौक पर ही धरने पर बैठे थे। कांग्रेस ने केंद्र पर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करने का आरोप भी लगाया, वहीं धरने पर बैठे राहुल गांधी समेत कांग्रेस के करीब 250 लोगों को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया, इनमें से 57 सांसद थे।

इसके साथ ही राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, ईडी ने देश में आतंक मचा रखा है, ईडी का जो तमाशा हो रहा है देश के अंदर, पहले राहुल गांधी को बुलाया और आज तीसरे दिन सोनिया जी को बुलाया है। ईडी का आतंक है देश के अंदर और ये जो आतंक मचा रखा है इसका फैसला जल्दी होना चाहिए। इनका अलग ही तरीका है, तफ्तीश करने का भी, अरेस्ट करने का भी, बयान लेने का भी। इनको एक तरह से सीबीआई से ज्यादा पॉवर मिली हुई है।

ईडी का उपयोग सरकारें गिराने के लिए किया जा रहा है। ईडी सरकारें गिराने का काम कर सकती है, लेकिन मंत्रिमंडल बनाने का काम नहीं कर सकती। लोकतंत्र किस दिशा में जा रहा है आप सोच सकते हैं। इस रूप में आज महंगाई और बेरोजगारी की जो स्थिति है देश के अंदर उसको लेकर पूरा देश चिंतित है। इन मुद्दों पर संसद के अंदर बहस करने नहीं दिया जाता है।

--आईएएनएस

एमएसके/एसकेपी

Share this story