उत्तराखंड में मुस्लिम वोटरों को लुभाने के लिए भाजपा ने चलाया अभियान

उत्तराखंड में मुस्लिम वोटरों को लुभाने के लिए भाजपा ने चलाया अभियान
उत्तराखंड में मुस्लिम वोटरों को लुभाने के लिए भाजपा ने चलाया अभियान नई दिल्ली, 24 नवंबर (आईएएनएस)। उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत का परचम लहराने के लिए भाजपा सरकार बड़ी संख्या में मुस्लिम वोट हासिल करने पर जोर लगा रही है। इसके लिए पार्टी कार्यकर्ता मुस्लिम समुदाय के लोगों के विचारों में भाजपा पार्टी के लिए फैली भ्रांतिया दूर करेंगे। भाजपा ने अल्पसंख्यक समुदाय के लिए हर एक केंद्र से 100 वोट हासिल करने का अभियान चलाया है, जो पूरे प्रदेश में विधानसभा चुनाव सम्पन्न होने तक चलेगा।

बीजेपी अल्पसंख्यक समुदाय के राष्ट्रीय अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी ने आईएएनएस से बातचीत करते हुए बताया कि उत्तराखंड में सभी मतदान केंद्रों पर अल्पसंख्यक समुदाय के 100 वोट हासिल करने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है।

उन्होंने बताया कि एक केंद्र, 100 वोट का अभियान प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव तक चलाया जाएगा। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा तेजी से इस अभियान की ओर काम करेगा और हर एक मतदान केंद्र से मुस्लिम वोट एकत्र करेगा।

उन्होंने बताया कि भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा मुस्लिम समुदाय के लोगों में फैली भ्रांतिया दूर करेगा जो विपक्ष की पार्टियों ने भाजपा और देश के प्रधानमंत्री के लिए उनके विचारों में फैलाने का काम किया है।

जमाल सिद्दीकी ने बताया कि इन सात सालों में भाजपा सरकार ने जो भी काम किए हैं उनसे जनता को लाभ मिला है और इन कामों से जनता खुश भी है चाहे वो हिन्दू समुदाय से हो या मुस्लिम समुदाय से।

उत्तराखंड राज्य में पंद्रह प्रतिशत मुस्लिम समुदाय के लोग है। तीन प्रतिशत सिख मौजूद है और अन्य समुदाय के एक प्रतिशत लोग मौजूद हैं। राज्य के 13 जिलों में मुस्लिम निर्णायक स्थिती में नहीं है लेकिन चुनाव में पार्टियों के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

बता दें कि अगले साल फरवरी और मार्च में प्रदेश में विधानसभा चुनाव होना है। साथ ही अन्य प्रदेशों उत्तर प्रदेश, पंजाब, मणिपुर और गोवा में भी चुनाव संपन्न होंगे। विधानसभा चुनाव के लिए प्रदेशों में तेजी से तैयारियां चल रही हैं और पार्टी की तरफ से कई अभियानों में जोर भी दिया जा रहा है। वहीं, प्रत्येक मतदान केंद्रों में जनता के लिए पार्टी के 21 लोगों की कमेटी बनाई जाएगी, जो उनका सत्यापन करेगी।

--आईएएनएस

एचएमए/आरजेएस

Share this story