एआईएडीएमके कलह को खत्म करने के लिए भाजपा कर सकती है हस्तक्षेप

एआईएडीएमके कलह को खत्म करने के लिए भाजपा कर सकती है हस्तक्षेप
चेन्नई, 26 जनवरी (आईएएनएस)। तमिलनाडु में भगवा पार्टी की प्रमुख सहयोगी अन्नाद्रमुक की आंतरिक कलह को खत्म करने के लिए भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व के दखल दे सकता है। जुलाई 2022 में एआईएडीएमके की जनरल काउंसिल ने ओपीएस और उनके करीबी अन्य नेताओं को पार्टी से निष्कासित कर दिया था और ईपीएस के नेतृत्व वाले गुट में पूर्व मंत्री डी. जयकुमार और सी.वी. षणमुघम ओपीएस की दोबारा एंट्री के खिलाफ हैं।

गौरतलब है कि दक्षिणी तमिलनाडु क्षेत्र हमेशा एआईएडीएमके का गढ़ रहा है, लेकिन थेवर समुदाया के ओपीएस और वी.के. शशिकला के पार्टी से बाहर होने पर अन्नाद्रमुक अपने गढ़ में मुश्किल स्थिति में है। बीजेपी का राष्ट्रीय नेतृत्व 2024 के लोकसभा चुनावों में तमिलनाडु से कुछ सीटों की उम्मीद कर रहा है, इसलिए वह एआईएडीएमके के दोनों धड़ों को एक करना चाहता है।

ओपीएस ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा अन्नाद्रमुक के बारे में पूछताछ करते रहे हैं और वह पार्टी के एकजुट होने की बात करते हैं। यह ईपीएस और उनके आसपास के लोगों के इस बयान के विपरीत है कि भाजपा ने एआईएडीएमके के मामलों में कभी हस्तक्षेप नहीं किया।

एक अन्य घटनाक्रम में एआईएडीएमके संस्थापक नेता एसी षणमुघम, जो वर्तमान में न्यू जस्टिस पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष हैं, ने भी ओपीएस और ईपीएस के नेतृत्व वाले एआईएडीएमके के दो गुटों के बीच मध्यस्थता करने की इच्छा व्यक्त की है। षणमुघम ने ओपीएस से इरोड पूर्व उपचुनाव में उम्मीदवार नहीं खड़ा करने का भी आह्वान किया है क्योंकि इससे पार्टी के दो पत्तियों के प्रतीक को फ्रीज कर दिया जाएगा।

तमिलनाडु बीजेपी के सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि बीजेपी का राष्ट्रीय नेतृत्व एआईएडीएमके के घटनाक्रम पर पैनी नजर रख रहा है और ओपीएस और ईपीएस के बीच मतभेदों को दूर करने के लिए उचित समय पर हस्तक्षेप करेगा।

--आईएएनएस

सीबीटी

Share this story