एफएओ ने भूख, जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का किया आह्वान

एफएओ ने भूख, जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का किया आह्वान
एफएओ ने भूख, जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का किया आह्वान रोम, 9 अक्टूबर (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन (एफएओ) के प्रमुख ने शुक्रवार को कहा कि जी-20 देशों के राजनीतिक नेताओं को वैश्विक भूख और जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम भूमिका निभानी चाहिए।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, जी20 संसदीय शिखर सम्मेलन में प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए, एफएओ के महानिदेशक क्व डोंग्यू ने शुक्रवार को कहा कि संगठन भूख और कुपोषण से निपटने के प्रयासों का समर्थन करने के लिए उत्सुक है।

क्व ने कहा, यह बैठक संभवत: इतालवी जी-20 प्रेसीडेंसी के तहत आयोजित सबसे महत्वपूर्ण सभाओं में से एक है।

यह उन अधिकारियों को एक साथ लाएग है, जो वैश्विक स्तर पर हमारे सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए नीतियों और कानूनी उपकरणों को विकसित कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि एफएओ मानता है कि सांसद रणनीतिक भागीदार हैं, क्योंकि वे कानूनी ढांचा बनाते हैं, सार्वजनिक बजट आवंटन को मंजूरी देते हैं और अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं पर सरकार की जवाबदेही सुनिश्चित करते हैं।

जी-20 की इतालवी अध्यक्षता के दौरान (जो इस वर्ष समाप्त होगी) सदस्य देशों ने वैश्विक खाद्य सुरक्षा और बेहतर पोषण के लिए अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता को नवीनीकृत और मजबूत किया है।

शुक्रवार को जी-20 बिजनेस 20 की सभा में बोलते हुए, क्व डोंग्यू ने आर्थिक मंदी से बचने के लिए रूपांतरित और अधिक समावेशी कृषि-खाद्य प्रणालियों का आह्वान किया है।

एफएओ प्रमुख ने चेतावनी देते हुए कहा, खाद्य सुरक्षा और पोषण पर कोविड -19 महामारी का सबसे विनाशकारी प्रभाव आर्थिक मंदी के अभूतपूर्व पैमाने के कारण था।

--आईएएनएस

एचके/आरजेएस

Share this story