एसडीपीआई, पीएफआई को स्थायी रूप से प्रतिबंधित करने की प्रक्रिया में आई तेजी : कर्नाटक गृह मंत्री

एसडीपीआई, पीएफआई को स्थायी रूप से प्रतिबंधित करने की प्रक्रिया में आई तेजी : कर्नाटक गृह मंत्री
एसडीपीआई, पीएफआई को स्थायी रूप से प्रतिबंधित करने की प्रक्रिया में आई तेजी : कर्नाटक गृह मंत्री बेंगलुरू, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा जनेंद्र ने गुरुवार को कहा कि आतंकवादी संगठनों को मौन समर्थन देने वाले पीएफआई और एसडीपीआई पर स्थायी प्रतिबंध लगाने की प्रक्रिया केंद्र सरकार के स्तर पर शुरू हो गई है।

गृह मंत्री ने कहा, इन दोनों संगठनों के संबंध कर्नाटक में नहीं, बल्कि देश के अन्य स्थानों पर भी आतंकी संगठनों से जुड़े पाए जाते हैं। अब, उन पर प्रतिबंध लगाने की प्रक्रिया तेज हो गई है।

मंत्री ने सुझाव दिया कि, एसडीपीआई और पीएफआई संगठन जिन कार्यों में लिप्त हैं, उनके बारे में सभी जानते हैं। दुनिया को पता होना चाहिए कि वे धन कैसे प्राप्त करते हैं और कौन उनका समर्थन करता है। उनके द्वारा बनाई गई गंदगी को साफ करने के लिए छापेमारी बहुत जरूरी थी।

उन्होंने आगे बताया, इतने वर्षों में कांग्रेस पार्टी के प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष समर्थन से ही ये संगठन तेजी से बढ़े हैं। अगर इन संगठनों को को समाप्त करना है, तो धर्म, जाति, हानि या लाभ को नहीं देखना चाहिए। सभी को सहयोग करना चाहिए।

इस बीच, एसडीपीआई और पीएफआई कार्यालयों और उनके नेताओं पर एनआईए के छापे की पृष्ठभूमि में गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र के आवास पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

एनआईए ने सिरसी से अजीज अब्दुल शुकुर होन्नावर, कालाबुरागी के पीएफआई जिला अध्यक्ष एजाज अली, शिवमोग्गा, चित्रदुर्ग, चिक्कमगलूर में एसडीपीआई के अध्यक्ष शाहिद खान, दावणगेरे से इमामुद्दीन और हरिहर शहर से अबू ताहिर को पकड़ा है।

एसडीपीआई नेता अताउल्लाह जोकट्टे ने कहा है कि तीन नेताओं को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि अशरफ ए.के., मोहियुद्दीन हलियांगडी और नवाज कावूर को एनआईए ने हिरासत में लिया है। हालांकि, इस संबंध में अभी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

--आईएएनएस

एचएमए/एएनएम

Share this story