कश्मीर में सेना का कुत्ता एक्सल ने गोली लगने के बाद भी आतंकी से लोहा लिया, बाद में मौत

कश्मीर में सेना का कुत्ता एक्सल ने गोली लगने के बाद भी आतंकी से लोहा लिया, बाद में मौत
कश्मीर में सेना का कुत्ता एक्सल ने गोली लगने के बाद भी आतंकी से लोहा लिया, बाद में मौत नई दिल्ली, 1 अगस्त (आईएएनएस)। कश्मीर के बारामूला जिले में सेना के एलीट असॉल्ट डॉग एक्सल ने गोली लगने के बावजूद आतंकवादी को पकड़ लिया, जिससे कई सैनिकों की जान बच गई। मालिंस स्क्वायड के दो साल उम्र के कुत्ते की आतंकवादी की बंदूक की गोली लगने से बाद में मौत हो गई।

सेना के सूत्रों ने कहा कि शुरुआत में एक और हमला करने वाले कुत्ते बजाज को बारामूला के वानीगाम बाला गांव में स्थित एक इमारत में सबसे पहले भेजा गया था।

इमारत के पहले कमरे को सेनिटाइज करने के बाद एक्सल को तैनात किया गया था। सूत्रों ने बताया कि कुत्ते ने पहले उसी कमरे में प्रवेश किया। जैसे ही वह दूसरे कमरे में दाखिल हुआ, वहां छिपे एक आतंकवादी ने उन पर गोलियां चला दीं।

सैनिकों और आतंकवादियों के बीच गोलियों का आदान-प्रदान हुआ, और ऑपरेशन समाप्त होने के बाद एक्सल का मृत शरीर को बरामद कर लिया गया। सूत्रों ने कहा कि एक्सल के हैंडलर को भी मामूली चोटें आई हैं।

यह समझा जाता है कि एक्सल ने गोली लगने के बावजूद आतंकवादी को पकड़ लिया, क्योंकि कुत्ते के शव के पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला है कि गोली से उसकी फीमर पर फ्रैक्चर के साथ-साथ दस से अधिक अन्य घाव थे।

सेना के सूत्रों ने कहा कि एक्सल की बहादुरी ने उन सैनिकों की जान बचाने में मदद की जो ऑपरेशन का हिस्सा थे। एक्सल पिछले महीने सिर्फ दो साल का हुआ था, वह 26 आर्मी डॉग यूनिट का था और 29 राष्ट्रीय राइफल्स के साथ ऑपरेशन में था।

मुख्यालय, 10 सेक्टर राष्ट्रीय राइफल्स में रविवार को एक पुष्पांजलि समारोह आयोजित किया गया, जिसमें काउंटर विद्रोह बल किलो के जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी) मेजर जनरल एसएस स्लरिया और जम्मू-कश्मीर पुलिस के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। 26 आर्मी डॉग यूनिट (एडीयू) और एक्सल के हैंडलर ने भी कुत्ते को अंतिम सम्मान दिया। बहादुर कुत्ते का अंतिम संस्कार 26 एडीयू परिसर में होगा।

--आईएएनएस

अनिल/एसजीके

Share this story