कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ के अध्यक्ष पद को लेकर दिए बयान पर जयराम रमेश की नसीहत

कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ के अध्यक्ष पद को लेकर दिए बयान पर जयराम रमेश की नसीहत
कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ के अध्यक्ष पद को लेकर दिए बयान पर जयराम रमेश की नसीहत नई दिल्ली, 23 सितंबर (आईएएनएस)। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के बीच कांग्रेस नेता गौरव वल्लभ ने शशि थरूर पर हमला किया और अशोक गहलोत का समर्थन करते नजर आए। वहीं उनके इस बयान के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने अपने प्रवक्ताओं को नसीहत दे डाली है।

सूत्रों के मुताबिक, जयराम रमेश ने संचार विभाग के सभी लोगों को नसीहत देते हुए कहा, कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने वाले हमारे किसी भी सहयोगी पर किसी भी तरह की टिप्पणी करने से बचें। हम सभी की अपनी व्यक्तिगत प्राथमिकताएं होती हैं लेकिन हमारा काम केवल कुछ चीजें उजागर करना है और कांग्रेस एकमात्र राजनीतिक दल है जिसके पास अपने अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए लोकतांत्रिक और पारदर्शी व्यवस्था है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस भारत में एकमात्र राजनीतिक दल है जिसके पास संगठनात्मक चुनाव कराने के लिए एक स्वतंत्र चुनाव प्राधिकरण है। चुनाव लड़ने के इच्छुक व्यक्ति को नामांकन फॉर्म भरने के लिए 10 पीसीसी प्रतिनिधियों को छोड़कर ऐसा करने के लिए किसी की अनुमति की आवश्यकता नहीं है। चुनाव प्राधिकरण स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित कराता है। प्रवक्ताओं को यह सुनिश्चित करना होगा कि चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष हों।

दरअसल गौरभ वल्ल्भ नें कहा था, यह ट्वीट कांग्रेस के कार्यकर्ता के रूप में है ना कि प्रवक्ता के रूप में, करोड़ों कार्यकर्ताओं की तरह मेरी पहली इच्छा तो यह है कि राहुल गांधी कांग्रेस और देश को अपना नेतृत्व दें। लेकिन यदि राहुल गांधी अपने फैसले पर अटल हैं और सार्वजनिक चर्चा में जो दो नाम सामने आ रहे हैं, उसमें से किसी एक को चुनना हो तो दोनों में कोई तुलना ही नहीं हो सकती है।

एक तरफ कार्यकर्ताओं व जमीन से जुड़े हुए अशोक गहलोत, जिन्हें 3 बार केंद्रीय मंत्री, 3 बार मुख्यमंत्री, 5 बार सांसद, 5 बार विधायक रहने का अनुभव हो, जिन्होंने सीधी टक्कर में मोदी-शाह को पटखनी दी हो, जिनका 45 वर्ष का निष्कलंक राजनीतिक जीवन हो। वहीं दूसरी तरफ शशि थरूर हैं, जिनका पिछले 8 वर्षों में पार्टी के लिए एक ही प्रमुख योगदान है। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी जी को तब चिट्ठियाँ भेजी जब वह अस्पताल में भर्ती थीं। इस कृत्य ने मेरे जैसे पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं को पीड़ा पहुँचाई, चयन बहुत सरल और स्पष्ट है।

--आईएएनएस

एमएसके/एसकेपी

Share this story