कांग्रेस ने पायलट, बघेल और चन्नी को दी ज्यादा अहमियत

कांग्रेस ने पायलट, बघेल और चन्नी को दी ज्यादा अहमियत
कांग्रेस ने पायलट, बघेल और चन्नी को दी ज्यादा अहमियत नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (आईएएनएस)। लखीमपुर खीरी कांड को लेकर भाजपा के साथ तनातनी के बीच कांग्रेस छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राजस्थान के नेता सचिन पायलट और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी को ज्यादा अहमियत देती नजर आ रही है।

बघेल दो बार लखनऊ गए, एक बार बुधवार को राहुल गांधी के साथ और पहले अकेले मंगलवार को, और वहां धरने पर भी बैठे थे, जबकि पायलट को जयपुर से सड़क मार्ग से लखनऊ जाने के लिए बुलाया गया था। कांग्रेस इस आंदोलन के माध्यम से अपने घर को वहां व्यवस्थित करने की कोशिश कर रही है, जहां आंतरिक दरार गहरी हो गई है।

कांग्रेस को विशेष रूप से छत्तीसगढ़ और राजस्थान में आंतरिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, जहां टी.एस. सिंहदेव और सचिन पायलट ने मुख्यमंत्री पद का दावा किया है और पार्टी को दोनों राज्यों में दोनों गुटों को संतुलित करने में मुश्किल हो रही है।

इसी तरह हरियाणा में प्रियंका दीपेंद्र हुड्डा को अपने साथ ले गईं, जबकि रणदीप सिंह सुरजेवाला राहुल गांधी के साथ लखनऊ गए। पंजाब मुद्दे के बाद पार्टी को उन राज्यों में कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, जहां वह सत्ता में है। राहुल गांधी के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी लखनऊ पहुंचे।

लखीमपुर खीरी कांड को लेकर कांग्रेस न केवल उत्तर प्रदेश में, बल्कि उत्तराखंड और पंजाब में भी खुद को स्थापित करने की कोशिश कर रही है। तीनों राज्यों में अगले साल की शुरुआत में चुनाव होने हैं।

इससे पहले, यूपी के अधिकारियों ने आखिरकार कांग्रेस सांसद राहुल गांधी को लखनऊ एयरपोर्ट से निकलने की इजाजत दे दी। छत्तीसगढ़ और पंजाब के मुख्यमंत्रियों के साथ आए कांग्रेस नेता के स्वागत के लिए हवाईअड्डे पर भारी भीड़ जमा थी।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राहुल गांधी को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दिए जाने के एक घंटे से भी कम समय के बाद सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें लखनऊ हवाईअड्डे पर रोक दिया। बघेल और चन्नी के साथ नाराज राहुल एयरपोर्ट पर धरने पर बैठ गए।

उन्होंने मीडिया से कहा, यह दृश्य दिखाएं.. उन्होंने (यूपी सरकार) कहा कि हम जाने के लिए स्वतंत्र हैं और अब वे हमें रोक रहे हैं। यह किस तरह की अनुमति है? यह उत्तर प्रदेश सरकार की यही अनुमति है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह धरने पर हैं, राहुल ने कहा, क्या करूं? मैं यहां बैठूंगा।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम

Share this story