कार्य संतुष्टि के मामले में देश के 66.4 प्रतिशत लोगों ने पीएम मोदी को दिया समर्थन : सर्वे

कार्य संतुष्टि के मामले में देश के 66.4 प्रतिशत लोगों ने पीएम मोदी को दिया समर्थन : सर्वे
कार्य संतुष्टि के मामले में देश के 66.4 प्रतिशत लोगों ने पीएम मोदी को दिया समर्थन : सर्वे नई दिल्ली, 8 अक्टूबर (आईएएनएस)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यों की संतुष्टि के मामले में देश भर के विपक्षी नेताओं की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है। आईएएनएस-सीवोटर-एबीपी सर्वेक्षण में सामने आए आंकड़ों से यह जानकारी मिली है।

सर्वे के अनुसार, कार्य संतुष्टि के मामले में पूरे भारत में पीएम मोदी को 66.4 प्रतिशत लोगों का समर्थन मिला है। 40.3 प्रतिशत लोग उनके काम से बहुत संतुष्ट हैं, जबकि 26.1 प्रतिशत लोग कोरोनावायरस महामारी की विनाशकारी दूसरी लहर के दौरान लोकप्रियता रेटिंग में गिरावट के बावजूद कुछ हद तक संतुष्ट हैं।

हालांकि, 30.6 फीसदी लोग ऐसे भी हैं, जो कि मोदी के प्रदर्शन से बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं हैं। तीन प्रतिशत प्रतिभागियों ने पता नहीं/कह नहीं सकते श्रेणी को चुना।

आगामी विधानसभा चुनाव वाले राज्यों पर नजर डाली जाए तो विशेष रूप से, मणिपुर के लोगों ने सबसे अधिक 51.2 प्रतिशत समर्थन के साथ पीएम मोदी का समर्थन किया है। पूर्वोत्तर राज्य के अलावा अगर उत्तराखंड की बात करें तो यहां 47.0 प्रतिशत लोग उनके समर्थन में खड़े नजर आए। उत्तर प्रदेश के 43.3 प्रतिशत लोगों ने काम के प्रति संतुष्ट होते हुए पीएम मोदी के लिए अपना समर्थन जाहिर किया।

उत्तराखंड और मणिपुर में, सभी प्रतिभागियों ने पता नहीं/कह नहीं सकते श्रेणी के लिए 0.0 प्रतिशत अंक देकर अपनी राय दर्ज कराई।

गोवा में 35.8 फीसदी लोग मोदी से काफी संतुष्ट हैं, जबकि 39.0 फीसदी लोग कुछ हद तक संतुष्ट हैं।

ताजा सर्वे के मुताबिक, पंजाब में पीएम की सबसे कम लोकप्रियता 15.0 फीसदी दर्ज की गई। पंजाब में 18.2 प्रतिशत लोग मोदी सरकार के साथ कुछ हद तक संतुष्ट हैं, जबकि 58.6 प्रतिशत लोग पीएम की लोकप्रियता को चुनौती देते हुए कह रहे हैं कि वे उनके काम से बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं हैं।

पंजाब के बाद, उत्तर प्रदेश के 33.2 प्रतिशत प्रतिभागियों ने पीएम के कार्यों से बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं होने की बात कही। हालांकि, सबसे अधिक आबादी वाले राज्य के 2.7 फीसदी लोगों ने अपनी राय दर्ज कराने से परहेज किया। अखिल भारतीय स्तर पर तीन प्रतिशत लोगों ने मोदी के प्रदर्शन पर टिप्पणी करने से परहेज किया।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story