किसान नेताओं ने राजनीतिक दलों से पंजाब में चुनाव प्रचार स्थगित करने का किया आग्रह

किसान नेताओं ने राजनीतिक दलों से पंजाब में चुनाव प्रचार स्थगित करने का किया आग्रह
किसान नेताओं ने राजनीतिक दलों से पंजाब में चुनाव प्रचार स्थगित करने का किया आग्रह चंडीगढ़, 10 सितम्बर (आईएएनएस)। तीन विवादास्पद केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन में गति खोने के डर से, संयुक्त किसान मोर्चा, 32 फार्म यूनियनों के एक संगठन ने शुक्रवार को पंजाब में अगले साल की शुरूआत में होने वाले विधानसभा चुनावों तक राजनीतिक दलों से अपने प्रचार अभियान को स्थगित करने को कहा है।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने भाजपा को छोड़कर राजनीतिक दलों के साथ दिन भर की चर्चा के बाद यहां मीडिया से कहा कि उन्होंने राजनीतिक दलों से कहा है कि राज्य में चुनाव की घोषणा होने तक बड़ी रैलियां ना करें।

उन्होंने कहा, रैलियां न केवल लोगों को मोर्चे से भटकाती है, बल्कि लोगों को राजनीतिक आधार पर बांटती हैं और तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के मोर्चा को खतरा पैदा कर सकती हैं।

राजेवाल ने कहा कि कांग्रेस और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) दोनों ही किसानों के आंदोलन पर अपने रुख के बारे में स्पष्ट नहीं हैं।

इससे पहले दिन में किसान नेताओं ने प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिद्धू के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की। उन्होंने शिअद और आप नेताओं के साथ अलग-अलग बातचीत भी की।

शिअद ने किसान नेताओं से राज्य में राजनीतिक गतिविधियों पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाकर किसान आंदोलन के राष्ट्रीय चरित्र को बनाए रखने के लिए कहा था, जबकि उसने दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन को मजबूत करने के लिए हर संभव मदद की पेशकश की थी।

किसान प्रतिनिधियों के साथ बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए, शिअद नेता प्रेम सिंह चंदूमाजरा और महेशिंदर सिंह ग्रेवाल ने कहा, केंद्र द्वारा पंजाब में किसान आंदोलन को प्रतिबंधित करने और फिर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाकर इसे दबाने की साजिश की जा रही है।

उन्होंने कहा, हमारी लड़ाई राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के साथ है। देश के किसी अन्य राज्य में किसान आंदोलन के कारण राजनीतिक गतिविधियों को प्रतिबंधित नहीं किया गया है। लोगों के पास जाना आपका अधिकार है और इसे प्रतिबंधित नहीं किया जाना चाहिए।

उन्होंने किसान आंदोलन को अपना अटूट समर्थन भी दोहराया। हम समझते हैं कि किसान आंदोलन बिल्कुल प्रभावित नहीं होना चाहिए। हम किसी भी दिन रैलियां नहीं करेंगे, जिस दिन एसकेएम एक विशेष कार्यक्रम की घोषणा करेगा। हम अपने कैडर को दिल्ली सीमा विरोध प्रदर्शन में भेजकर संघर्ष का समर्थन करने के लिए भी तैयार हैं। एसकेएम प्रत्येक राजनीतिक दल की भागीदारी के लिए एक कोटा निर्धारित करने के लिए भी स्वतंत्र है और हम उसका पालन करेंगे।

--आईएएनएस

एचके/एएनएम

Share this story