केरल में विवादास्पद कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में माकपा के 4 सदस्य गिरफ्तार

केरल में विवादास्पद कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में माकपा के 4 सदस्य गिरफ्तार
केरल में विवादास्पद कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में माकपा के 4 सदस्य गिरफ्तार तिरुवनंतपुरम, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। स्थानीय माकपा की ओर से संचालित त्रिसूर कारवनूर कोऑपरेटिव बैंक में जुलाई में सामने आए बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की जांच कर रही केरल पुलिस की टीम ने सोमवार को बोर्ड के चार सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया।

धोखाधड़ी का पता चलने के बाद बैंक के बोर्ड को बैन कर दिया गया है।

राज्य के सहकारिता मंत्री वी.एन. वासवन, जो माकपा के एक शीर्ष नेता भी हैं, उनके पास से 104.37 करोड़ रुपये से अधिक की राशि मिली है और राज्य सरकार ने इस मामले में क्राइम ब्रांच द्वारा जांच शुरू कराई और छह लोगों को आरोपित किया। सभी कर्मचारी, पहली सूचना रिपोर्ट में आरोपी के रूप में जो पहले ही दायर की जा चुकी है, बाद में उनकी गिरफ्तारी की गई थी।

वहीं इस मामले में मंत्री का कहना है कि यह 104 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी है, वहीं विपक्षी पार्टी कांग्रेस का कहना है कि यह आंकड़ा वास्तविक राशि का केवल एक छोटा सा हिस्सा है।

ताजा गिरफ्तारी में इसके पूर्व अध्यक्ष के.के. दिवाकरन और तीन अन्य निदेशक और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वे सभी माकपा के सदस्य हैं।

प्रवर्तन निदेशालय ने भी पैसे की हेराफेरी की अपनी जांच शुरू कर दी है क्योंकि रिपोर्ट्स सामने आई हैं कि उन्होंने इस पैसे का एक बड़ा हिस्सा थेक्कडी के एक रिसॉर्ट में निवेश किया है।

स्थानीय कोऑपरेटिव अधिकारियों के निरीक्षण के बाद यह घोटाला सामने आया है।

स्थानीय लोगों द्वारा बैंक में व्यवस्था ठीक नहीं होने की शिकायत के बाद निरीक्षण किया गया था।

सहकारी निरीक्षकों द्वारा निरीक्षण के बाद, शिकायत सही पाई गई और यह सामने आया कि विभिन्न संपत्ति दस्तावेजों पर दिए गए लोन के पैसे कुछ खातों में जमा किए गए थे, जबकि कुछ को यह नहीं पता था कि उनके संपत्ति दस्तावेजों के आधार पर लोन स्वीकृत किए जा रहे थे।

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने वादा किया था कि सभी गलत काम करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी और किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा। इन ताजा गिरफ्तारी के नए दौर को विजयन के मजबूत रुख के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

--आईएएनएस

साकिब/आरजेएस

Share this story