कोयले का स्टॉक घटने से तमिलनाडु में थर्मल पावर स्टेशनों में संकट

कोयले का स्टॉक घटने से तमिलनाडु में थर्मल पावर स्टेशनों में संकट
कोयले का स्टॉक घटने से तमिलनाडु में थर्मल पावर स्टेशनों में संकट चेन्नई, 8 अक्टूबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु जनरेशन एंड डिस्ट्रीब्यूशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (टैंगेडो) के थर्मल पावर स्टेशन कोयले की आपूर्ति में कमी के बाद संकट का सामना कर रहे हैं।

राज्य सरकार द्वारा संचालित पावर कॉरपोरेशन पहले ही इस संकट से उबरने के लिए कोल इंडिया लिमिटेड और साथ ही बिजली मंत्रालय दोनों से संपर्क कर चुका है।

टेंजेडो अधिकारियों के अनुसार, राज्य में बिजली उत्पादन के केवल चार दिनों के लिए कोयले का भंडार है और इससे बिजली उत्पादन में अभूतपूर्व संकट पैदा होगा। विभाग ने कोल इंडिया से बिजली उत्पादन के लिए कच्चे माल की न्यूनतम मात्रा की आपूर्ति करने का अनुरोध किया है।

तमिलनाडु में सितंबर के अंतिम सप्ताह से कोयले की आपूर्ति में कमी है और तांगेडो के मेट्टूर, तूतीकोरिन और उत्तरी चेन्नई में पांच बिजलीघर कोयले की कमी से जूझ रहे हैं, जो थर्मल क्षेत्र में बिजली उत्पादन के लिए कच्चा माल है।

टेंजेडो के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, बुधवार को सभी ताप विद्युत गृहों में कोयले की खपत 60,265 टन रही और आपूर्ति केवल 36,255 टन थी। अधिकारी के अनुसार, शेष स्टॉक केवल 1.92 लाख टन था और अधिकतम चार दिनों तक ही चलेगा अगर बिजली उत्पादन के लिए कोयले की वर्तमान मात्रा का आधा उपयोग किया जाता है।

बुधवार को राज्य का जलविद्युत उत्पादन बढ़कर 1.2 करोड़ यूनिट हो गया है और बिजली पैदा करने के लिए अक्षय ऊर्जा स्रोतों का भी दोहन किया जा रहा है।

टेंजेडो के अधिकारी ने कहा कि विभाग आने वाले दिनों में कोयले की आपूर्ति की उम्मीद कर रहा है और राज्य सरकार ने पहले ही केंद्रीय बिजली मंत्रालय से राज्य को ज्यादा कोयला उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है क्योंकि राज्य में मुख्य बिजली उत्पादन थर्मल पावर के माध्यम से होता है। जिसका कच्चा माल कोयला है।

यह ध्यान दिया जा सकता है कि थर्मल पावर के माध्यम से प्रतिदिन टेंजेडो बिजली उत्पादन 4320 मेगावाट है और कोयले की आवश्यकता प्रतिदिन 62,000 टन है।

सूत्रों ने कहा कि चीन बिजली संकट का सामना कर रहा है और देश दुनिया भर से कोयले के स्रोतों का दोहन कर रहा है और इसलिए भारत में कोयले की कमी है।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

Share this story