गहलोत-पायलट की खींचतान का फायदा उठा रही राजस्थान की नौकरशाही?

गहलोत-पायलट की खींचतान का फायदा उठा रही राजस्थान की नौकरशाही?
गहलोत-पायलट की खींचतान का फायदा उठा रही राजस्थान की नौकरशाही? जयपुर, 23 नवंबर (आईएएनएस)। क्या मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के बीच चल रही खींचतान में राजस्थान की नौकरशाही एक पार्टी बन गई है?

आईएएस एसोसिएशन ने बीकानेर के जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल को फटकार लगाने के लिए पंचायत राज मंत्री रमेश मीणा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है, भगवती प्रसाद बैठक के दौरान फोन का इस्तेमाल कर रहे थे। मंत्री ने कलेक्टर से कमरे से बाहर जाने को कहा।

आईएएस एसोसिएशन के सचिव समित शर्मा ने मुख्य सचिव उषा शर्मा को पत्र लिखकर इस घटना को अपमानजनक और अवांछित बताया और कार्रवाई की मांग की ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो। यह पहली बार नहीं है जब राजस्थान में इस तरह के राजनीतिक-नौकरशाही के झगड़े की सूचना मिली है।

हालांकि, यह पहली बार है जब किसी मंत्री से विवाद के बाद आईएएस एसोसिएशन इस तरह से लामबंद हुआ है। आईएएस एसोसिएशन के सदस्यों ने मुख्य सचिव उषा शर्मा से मुलाकात कर मीणा के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। राजस्थान के राजनीतिक और नौकरशाही के इतिहास में यह पहला मौका है जब आईएएस अधिकारियों ने इस तरह का अल्टीमेटम दिया है। आईपीएस और आईएफएस एसोसिएशन भी आईएएस लॉबी के समर्थन में आ गए हैं।

दोनों संघों ने मंत्री के खिलाफ तत्काल कार्रवाई के लिए मुख्य सचिव को पत्र भी लिखा है। एसोसिएशन के सचिव समित शर्मा ने मीडिया से कहा कि अगर एक-दो दिन में इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई तो अधिकारियों में आक्रोश और बढ़ेगा। बीकानेर की घटना के बाद अफसरशाही लॉबी इतना आक्रोशित क्यों हो गई है, इस पर सवाल उठ रहे हैं, जबकि इससे पहले भी मंत्री कअफसरों को निशाना बनाते रहे हैं।

कई अधिकारी इस घटना को सत्ताधारी कांग्रेस में गुटबाजी से जोड़ रहे हैं। आमतौर पर राजस्थान में किसी मंत्री से विवाद होने पर आईएएस एसोसिएशन कभी इस तरह की प्रतिक्रिया नहीं देता, जैसा कि इस बार हुआ है। राजनीतिक और नौकरशाही हलकों में सत्ता पक्ष में गुटबाजी को आईएएस एसोसिएशन के इस मामले में मुखर होने का कारण बताया जा रहा है। रमेश मीणा चूंकि सचिन पायलट गुट से ताल्लुक रखते हैं, इसलिए कुछ आईएएस अफसर भी गहलोत को खुश करने के लिए इस प्रकरण को तूल दे रहे हैं। खेल मंत्री अशोक चांदना ने गहलोत के प्रधान सचिव कुलदीप रांका पर सभी शक्तियों का प्रयोग करने का आरोप लगाया है।

यहां तक कि उन्होंने मंत्री पद छोड़ने तक की धमकी दी थी। हाल ही में मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने आईएएस अधिकारियों की एसीआर भरने का अधिकार मांगा था, तब भी एसोसिएशन की ओर से कोई विरोध दर्ज नहीं कराया गया था। वास्तव में, ऐसी कई घटनाएं हैं जहां नौकरशाही-राजनीतिक संघर्ष देखा गया। लेकिन आईएएस एसोसिएशन अब क्यों बोल रहा है। सचिवालय के गलियारों में चर्चा है कि आईएएस एसोसिएशन इस बार एक खास लक्ष्य को लेकर विरोध कर रहा है।

सूत्रों ने कहा कि यह मुद्दा गहलोत और पायलट के बीच चल रही खींचतान का हिस्सा है। 2008 में जब रमेश मीणा बसपा से चुने गए तो उन्होंने तत्कालीन कांग्रेस सरकार और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को अपना समर्थन दिया। उनकी गिनती गहलोत के करीबी नेताओं में होती थी। 2013 से 2018 के बीच बदली परिस्थितियों में वह तत्कालीन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट के करीब आ गए। वह लगातार तीसरी बार विधायक हैं और इस बार मंत्री भी बने हैं। मीणा अपने क्षेत्र और समर्थकों के बीच एक मजबूत राजनेता माने जाते हैं।

2018 में जब वह जीते तो मंत्री बना दिया गया। लेकिन सचिन पायलट के विद्रोह के दौरान जुलाई 2020 में मानेसर जाने के बाद उन्हें पायलट समेत मंत्री पद से हटा दिया गया। बाद में नवंबर 2021 में उन्हें दोबारा मंत्री बनाया गया।

--आईएएनएस

केसी/एएनएम

Share this story