गांधी-गोडसे में जो फर्क है वही फर्क हिन्दूधर्म और हिंदुत्व में है : गौरव वल्लभ

गांधी-गोडसे में जो फर्क है वही फर्क हिन्दूधर्म और हिंदुत्व में है : गौरव वल्लभ
गांधी-गोडसे में जो फर्क है वही फर्क हिन्दूधर्म और हिंदुत्व में है : गौरव वल्लभ नई दिल्ली, 18 नवंबर (आईएएनएस)। कांग्रेस ने कहा है कि गांधी और गोडसे में जो फर्क है वही फर्क हिन्दू धर्म और हिंदुत्व में है। जो हिंदूधर्म को मानते हैं वो महात्मा गांधी की विचारधारा है और हिंदुत्व नाथूराम की विचारधारा है।

कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने गुरुवार को प्रेसवार्ता में कहा हिंदुत्व नाथूराम की विचारधारा है। गोडसे, जिसने मारा महात्मा गांधी को। उन्होंने कहा पिछले 200 सालों में अगर कोई सबसे बड़ा हिंदू धर्म को अपनाने वाला अभ्यास करने वाला है तो वो महात्मा गांधी हैं। उन्होंने कहा हिंदूधर्म अहिंसा का मार्ग पर चलना सिखाता है जिसका अनुसरण महात्मा गांधी ने किया। लेकिन नाथूराम गोडसे ने जिस अहिंसा का अनुसरण किया वो हिन्दुत्व है.. उन्होंने कहा ये समझना बेहद सरल है। जिस हिंदुत्व का आज प्रचार किया जा रहा है। आज भी कुछ लोग इस विचारधारा को मानने वाले देश में मौजूद हैं।

गौरव वल्लभ ने कहा, गोडसे ने गांधी को क्यों मारा? हिंदुत्व ने हिंदू धर्म को मारने की कोशिश क्यों की? क्योंकि वे सभी धर्मों के सम्मान के विचारों को नहीं समझ सकते हैं।

वल्लभ ने कहा ने कहा हिन्दूधर्म वसुधैव कुटुम्बकम है यही गांधी ने सिखाया। वे हिंदू धर्म समावेश को समझाते रहे हैं।

उन्होंने बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत का नाम लिए बिना कहा कि एक सरकारी अभिनेत्री महात्मा गांधी पर टिप्पणी कर उनकी विचारधारा का अपमान कर, उन्हें बदनाम करने के प्रयास में जुटी हैं। लेकिन सरकार उनकी टिप्पणियों पर चुप है।

हिंदुत्व और हिंदू धर्म तब शुरू हुआ जब कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने अयोध्या पर अपनी पुस्तक का विमोचन किया। जहां उन्होंने हिंदुत्व की विचारधारा की तुलना आतंकी समूहों इस्लामिक स्टेट और बोको हराम से की।

दरअसल हिंदूधर्म और हिंदुत्व की व्याख्या राजनीतिक पार्टियां अपने हिसाब से ही करती आई हैं। हाल ही में पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने अपनी किताब सनराइज ओवर अयोध्या में हिंदुत्व की तुलना एक कट्टरपंथी आतंकी संगठन से की थी। इस बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी हिंदुत्व और हिन्दूधर्म के बीच अंतर करार दे दिया था। उन्होंने कहा था, हिंदू धर्म और हिंदुत्व में फर्क है, क्योंकि अगर फर्क नहीं होता तो नाम एक ही होता।

--आईएएनएस

पीटीके/एएनएम

Share this story