चिड़ियाघर में पले-बढ़े 3 दोस्त, लंबे समय बाद फिर से आए एक साथ

चिड़ियाघर में पले-बढ़े 3 दोस्त, लंबे समय बाद फिर से आए एक साथ
चिड़ियाघर में पले-बढ़े 3 दोस्त, लंबे समय बाद फिर से आए एक साथ तिरुवनंतपुरम, 9 मई (आईएएनएस)। 55 एकड़ के शानदार तिरुवनंतपुरम चिड़ियाघर में पले-बढ़े तीन दोस्तों के लिए इस बार की जू यात्रा काफी शानदार रही। उनके पहले दोस्तों में शेर, बाघ, बाघिन, बंदर, भेड़ और कंगारू शामिल थे। उनमें से कोई भी अब वहां नहीं है।

ये तीन दोस्त हैं - सिंथिया चंद्रन, हरि पिल्लई और सजीव जोसेफ। चंद्रन और पिल्लई के पिता चिड़ियाघर के निदेशक थे और जोसेफ के पिता पशु चिकित्सक थे। ये तीनों लगभग तीन दशक पहले चिड़ियाघर के अंदर पले-बढ़े थे।

सिंथिया ने कहा, हम तीनों लगभग एक ही उम्र के थे। हम सभी चिड़ियाघर में पले-बढ़े। पिछले लगभग तीन दशकों में यह हमारी पहली यात्रा है। हम उन सभी जगहों पर घूमे जहां हम खेला करते थे। हम अपनी शैतानियों को याद कर रहे थे। पुराने ब्रिटिश बंगले की यात्रा मुख्य आकर्षण था, इसमें एक सुंदर गार्डन था।

तीनों दोस्त ने बाघिन मिनी और बाघ टोनी और लियो सहित बोबन और मौली, नीलगिरि तहर के भाई-बहन की जोड़ी, जॉनी, कंगारू, जेरी, एक और शेर शावक को याद किया।

53 वर्षीय साजीव जोसेफ ने कहा, जिन्हें उनके बचपन के दोस्त प्यार से थंपी के नाम से संबोधित करते थे, कई नए जानवरों और एवियरी के आने के साथ कैंपस में बहुत कुछ बदल गया है। हमने अपनी यात्रा के लिए एक छोटी गाड़ी ली। मैं उन जगहों पर गया, जहां मैं 24 सालों तक पला-बढ़ा।

यहां टेक्नोपार्क कैंपस में एक आईटी कंपनी में कॉपोर्रेट संचार निदेशक के रूप में काम करने वाले हरि कुछ समय पहले अपनी सात साल की बेटी वैष्णवी के साथ म्यूजियम और चिड़ियाघर गए थे।

53 वर्षीय हरि पिल्लई ने कहा, लेकिन इस बार की यात्रा एक बिल्कुल अलग थी, क्योंकि मैं अपने बचपन के दिनों को अपने दोस्तों के साथ याद कर रहा था। हम तीनों नटखट थे।

सिंथिया कहते हैं कि उनका बचपन सबसे अच्छा रहा। वीकेंड के दौरान, हमने नीली वैन की सवारी भी की, जो चिड़ियाघर के जानवरों को भोजन पहुंचाती थी। जानवरों के बीच बड़ा होना कोई आसान काम नहीं है, हम इनकी देखभाल करते थे। फिर से यहां आना हमें जीवन भर याद रहेगा। अब अभी से ही अगली तिरुवनंतपुरम यात्रा की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

--आईएएनएस

पीके/एसकेपी

Share this story