जी-23 के संसदीय बोर्ड के पुनर्गठन की मांग पर सीडब्ल्यूसी में चर्चा

जी-23 के संसदीय बोर्ड के पुनर्गठन की मांग पर सीडब्ल्यूसी में चर्चा
जी-23 के संसदीय बोर्ड के पुनर्गठन की मांग पर सीडब्ल्यूसी में चर्चा उदयपुर, 15 मई (आईएएनएस)। कांग्रेस के असंतुष्ट जी23 नेताओं की संसदीय बोर्ड के गठन की प्रमुख मांग को संगठनात्मक मुद्दों पर बनाए गए उपसमूह ने स्वीकार कर लिया है और इसे सीडब्ल्यूसी की बैठक में रखा जाएगा।

कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक बाद में होगी और इस मुद्दे पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।

लेकिन, कांग्रेस संसदीय बोर्ड (सीपीबी) के सदस्य चुने जाएंगे या मनोनीत होंगे, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है। सूत्रों ने बताया कि कुछ समय पहले सीपीबी को बंद कर दिया गया था और अब इसकी मांग पर उदयपुर में चिंतन शिविर के दौरान चर्चा की गई और जी-23 नेताओं ने पार्टी फोरम में इस मुद्दे को उठाया।

रविवार को विचार-विमर्श के बाद उदयपुर घोषणा को स्वीकार किया जाएगा। समापन के दिन सोनिया गांधी और राहुल गांधी सभा को संबोधित करेंगे।

जनता से जुड़ने के लिए कश्मीर से कन्याकुमारी तक राहुल गांधी की पदयात्रा (पैदल मार्च) पार्टी के सामने एक और महत्वपूर्ण प्रस्ताव है।

सूत्रों ने कहा कि यात्रा पार्टी के चिंतन शिविर के दौरान चर्चा का हिस्सा थी और इस साल के अंत में आम चुनावों के लिए शुरू होने की संभावना है।

जन-समर्थक एजेंडे को आगे बढ़ाने और सरकार की विफलताओं और लोगों की दुर्दशा को उजागर करने के लिए राज्य के नेताओं द्वारा प्रत्येक राज्य में इसी तरह की पदयात्राओं का आयोजन किया जाएगा।

अंतिम फैसला सीडब्ल्यूसी करेगी। पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महंगाई और आर्थिक मुद्दों पर सरकार के खिलाफ जन आंदोलन के कार्यक्रम पर चर्चा की है।

--आईएएनएस

आरएचए/एसकेपी

Share this story