जोशीमठ भू धंसाव: जे पी कॉलोनी में फिर बढ़ा जल रिसाव, प्री-फैब्रिकेटेड भवनों का निर्माण करना हुआ शुरू

जोशीमठ भू धंसाव: जे पी कॉलोनी में फिर बढ़ा जल रिसाव, प्री-फैब्रिकेटेड भवनों का निर्माण करना हुआ शुरू
जोशीमठ, 24 जनवरी (आईएएनएस)। जोशीमठ में जहां हर पल स्थितियां गंभीर होती जा रही है। तो वही सरकार जल्द से जल्द आपदा प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थान पर विस्थापित करने के लिए एचडीआरआई के पास उद्यान विभाग की भूमि पर सीबीआरआई रूड़की के सहयोग से प्री फैब्रिकेटेड भवनों का निर्माण शुरू कर दिया गया है।

सचिव आपदा प्रबंधन डॉ रंजीत सिन्हा ने बताया कि यहां वन बीएचके, टू बीएचके व थ्री बीएचके के मॉडल प्रोटोटाइप प्री-फ्रेब्रिकेटेड पांच भवनों का निर्माण किया जा रहा है। इसके अलावा ढाक गांव में 10 हेक्टेयर भूमि पर मॉडल प्री-फेब्रीकेटेड घरों के निर्माण के लिए भूमि का चयन होने के बाद भूमि समतलीकरण बिजली, पानी, सीवर आदि की व्यवस्थाओं पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।

यह एक निजी कंपनी की ओर से 100 वन बीएचके, टू बीएचके व थ्री बीएचके के मॉडल प्रोटोटाइप प्रीफ्रेब्रिकेटेड भवन बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि कई दूसरी कंपनियों ने भी इसमें रूचि दिखाई है, जो अपने निजी खर्च पर ऐसे भवन बनाकर देना चाहती है। इनमें आगे की बातचीत की जा रही है। उन्होंने बताया कि अभी तक 15 भवन सीबीआरआई और 100 भवन एक निजी कंपनी की ओर से बनाए जाने हैं।

उधर,जेपी कॉलोनी में हो रहे पानी के रिसाव की मात्रा में लगातार उतार-चढ़ाव दर्ज किया जा रहा है। पानी की मात्रा 180 एलपीएम दर्ज की गई, जबकि एक दिन पहले यह 136 एलपीएम पर था। वहीं भवनों में नई दरारें दर्ज नहीं की गई हैं। सचिव आपदा प्रबंधन डॉ. रंजीत सिन्हा ने बताया कि 6 जनवरी को पानी का डिस्चार्ज 540 एलपीएम था, तब से इसकी मात्रा में लगातार उतार-चढ़ाव दर्ज किया जा रहा है। पानी के स्रोत और इसकी स्थिति पर अभी तकनीकी रिपोर्ट आनी बाकी है, तभी इस बारे में विस्तृत रूप से कुछ कहा जा सकेगा। फिलहाल पानी के रिसाव पर नजर रखी जा रही है।

उन्होंने कहा कि दरार वाले भवनों में क्रेको मीटर लगाए गए थे। इनमें शुरूआत में दरारों में बढोतरी दर्ज की गई थी, लेकिन अब दरारें स्थिर हैं। सीबीआरआई का कहना है कि जमीन अब स्थिर हो रही है। यह शुभ संकेत है। उन्होंने बताया कि पानी के कुछ बड़े टैंकों में दरारें आईं थी, जिन्हें पहले ही खाली कराने के निर्देश दे दिए गए थे।

सचिव ने बताया कि जोशीमठ आपदा प्रभावित 261 परिवारों को अब तक अग्रिम राहत के तौर पर 3 करोड़ 45 लाख रुपये की राशि वितरित की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि 278 परिवार सुरक्षा के ²ष्टिगत अस्थायी रूप से विस्थापित किए गए हैं। विस्थापित परिवार के सदस्यों की संख्या 933 है। इसके अलावा 10वीं के 395 और 12वीं के 514 बच्चों की पढ़ाई में बोर्ड परीक्षाओं से पहले कोई व्यवधान न पड़े, इसका भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

--आईएएनएस

स्मिता/एएनएम

Share this story