जो पार्टी नहीं सम्भाल पा रहे, वो उत्तराखंड क्या संभालेंगे : पुष्कर सिंह धामी

जो पार्टी नहीं सम्भाल पा रहे, वो उत्तराखंड क्या संभालेंगे : पुष्कर सिंह धामी
जो पार्टी नहीं सम्भाल पा रहे, वो उत्तराखंड क्या संभालेंगे : पुष्कर सिंह धामी नई दिल्ली , 12 जनवरी (आईएएनएस)। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए 14 फरवरी को मतदान होगा। इसके लिए 21 जनवरी को अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। 28 जनवरी को नामांकन की आखिरी तारीख है। इस चुनाव में पुष्कर सिंह धामी भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद का चेहरा हैं। कांग्रेस ने इस चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। हालांकि, हरीश रावत कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद के सबसे बड़े दावेदार माने जा रहे हैं। आम आदमी पार्टी की ओर से कर्नल अजय कोठियाल मुख्यमंत्री पद का चेहरा हैं।

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा के सामने किस तरह की चुनौतियां हैं और पुष्कर सिंह धामी अपनी जीत को लेकर कितना आश्वस्त हैं, इस बारे में पेश है उनसे खास बातचीत के अंश,

प्रश्न- क्या आप उत्तराखंड में वापसी कर रहे हैं?

उत्तर- बिलकुल हम आश्वत हैं, कहीं कोई दिक्कत नहीं है। हमने इस बार नारा दिया है इस बार 60 पार, सिर्फ बीजेपी ही वापसी करेगी।

प्रश्न-आपको लगता है कि हरीश रावत के साथ कड़ा मुकाबला हैं आपका?

उत्तर- कोई मुकाबला नहीं है। जिनकी अपनी पार्टी में कोई स्वीकार्यता नहीं है, उनसे क्या मुकाबला। इस समय हमारा किसी से मुकाबला नहीं हैं। जो अपनी पार्टी कांग्रेस को नहीं संभाल पा रहे, वो क्या उत्तराखंड संभालेंगे? जनता उनको उत्तराखंड संभालने का अवसर नहीं देगी।

प्रश्न-तो सबसे बड़ी चुनौती किसे मान रहे हैं, किससे मुकाबला है ?

उत्तर- मुकाबला किसी से नहीं है इस समय, कांग्रेस पार्टी खुद में छिन्न भिन्न हैं, इतने ग्रुप आपस में बने हुए है। रावत जी 1999 से लेकर अभी तक मात्र एक चुनाव जीत पाये हैं। उन्होंने देख लिया है कि उनकी सरकार रहते हुए उन्होंने जो काम किये, जनता ने उन्हें दो-दो जगह से हराया, अब जो आदमी मुख्यमंत्री रहते हुए दो-दो चुनाव हार गए, उनसे क्या मुकाबला? और आम आदमी पार्टी का यहां कोई जनाधार नहीं है। इसलिए हमने कहा कि इस बार 60 पार।

प्रश्न- तो जो एंटी इंकम्बेंसी फैक्टर है, क्या मुश्किल में डाल सकता है?

उत्तर- हमारी पार्टी वही काम करती है जो जनता के हित में हो। मेरा लक्ष्य प्रदेश के अंतिम व्यक्ति को खुशहाली देने का रहा है। बातें काम और काम ज्यादा का मन्त्र लेकर हमने काम किया है। ऐसे में जब सभी लोग सरकार से खुश हैं, तो एंटी इंकम्बेंसी फैक्टर का कोई मतलब नहीं है। आप सभी सर्वे चेक कर लीजियेगा, सभी में हम आगे हैं ।

प्रश्न- आपके ऊपर टिकट बाँटने का दबाव है, इस समय पार्टी में?

उत्तर- ठीक है, एक प्रक्रिया है। जो परिस्थितियों के साथ ठीक बैठेगा वही होगा। हमारी पार्टी के संगठनात्मक ढांचे में सभी अपनी भूमिका पूरी आस्था से निभाते हैं, तो इसमें किसी भी प्रकार का कोई दबाव नहीं है।

प्रश्न- कौन कौन से मुद्दे लेकर चुनाव में उतर रहे हैं?

उत्तर- मुद्दे विकास के हैं, हमने विकास किया है, और उन्होंने काले कारनामे किए हैं । जनता यहाँ विकास को तवज्जो देगी। केंद्र और राज्य के समन्वय से प्रदेश में 1 लाख करोड़ रूपये की कई जनकल्याणकारी योजनाएं चल रही हैं। चार धाम वाली सड़कों से लेकर पहाड़ों में रेल विकास, हर मोर्चे पर हो रहा है। पूरे प्रदेश में मैं हर जगह गया हूँ, मैंने देखा है, जगह जगह लोगों का बहुत समर्थन मिल रहा है। मोदी जी ने जो काम किया हैं, हमने जो काम किया है, वही हमारा प्रचार है। वही मुद्दे भी हैं ।

प्रश्न- चुनाव आयोग द्वारा जो डिजिटल कैम्पेन के लिए कहा गया है, क्या आप इसके लिए तैयार है?

उत्तर- हाँ, हम हर तरह से तैयार हैं। हमारा पूरा प्रचार अभियान चल रहा है। हमारी दो-दो विजय संकल्प यात्राएं चली थीं। माननीय मोदी जी के यहाँ चार कार्यक्रम हो चुके है, गृहमंत्री जी के दो कार्यक्रम हो चुके हैं, नड्डा जी के चार हो चुके है ,राजनाथ जी के चार हो चुके हैं, सभी नेताओं के हो गए हैं , और हमारे सभी काम हो रहे हैं, मैं सभी विधानसभाओं में जा चुका हूं। सभी पर्व संवाद किये हैं। पार्टी संगठन के लोग लगे हुए हैं। जहाँ तक रही डिजिटल की बात, हम हमेशा से तैयार थे और हैं।

प्रश्न- क्या धामी अगले मुख्यमंत्री बनेंगे ?

उत्तर- मैं अपने बारे में कैसे बता सकता हूँ, हमारी पार्टी का लोकतान्त्रिक ढंग से काम करती है, यहाँ किसी एक परिवार का हुक्म नहीं चलता ।

प्रश्न- ये चुनाव धामी बनाम रावत, या बीजेपी बनाम कांग्रेस होगा?

उत्तर- इस समय केवल बीजेपी है, हमारा किसी से कोई मुकाबला नहीं है।

प्रश्न- बीच-बीच में बागी लोग पार्टी को परेशान करते रहते हैं, उनका क्या ?

उत्तर- कोई परेशानी नहीं है , सब एक सुर में लगे हुए हैं। परिवार है बड़ा, ये सब चलता रहता है। हमारे यहाँ ऐसी स्थिति नहीं है। हरीश रावत ने कुछ दिनों पहले आपने देखा ही होगा , कांग्रेस में कई लोग इस्तीफा दे रहे थे, अब कांग्रेस और उनमें ही ताल मेल नहीं है। ये सब हमारे यहां नहीं है। हमारे यहाँ कोई झगड़ा नहीं है।

प्रश्न- अच्छा तो आपको लग रहा है की इस बार बीजेपी साठ पार ?

उत्तर- हाँ बिलकुल।

प्रश्न- आपका कार्यकाल छोटा ही रहा है , आपकी क्या उपलब्धियां रही है इस दौरान ?

उत्तर- इस दौरान बहुत उपलब्धियां रहीं है। हमने 500 से भी ज्यादा फैसले लिए है, और सिर्फ लिए ही नहीं हैं, सारे धरातल पर भी उतरे हैं। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना हमने शुरू की। मुख्यमंत्री महालक्ष्मी योजना चलाई, मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना , तमाम लोगों को राहत के पैकेज , तमाम जगह पर जो शिलान्यास किये थे, सब पूरे किये। सारी योजनाएं पूरी की हैं। पर्यटन के क्षेत्र में, सांस्कृतिक क्षेत्र में, मंगल दल , ग्राम प्रधान, हमारी भोजन माताएं, आंगन बड़ी , आंदोलनकारी सबका मानदेय बढ़ाया है। सरकारी कर्मचारी, विजली विभाग , बताने के लिए इतना हैं कि घंटा भर लग जायेगा।

प्रश्न- आपको लगता है उत्तराखंड की जनता आपके कामों से संतुष्ट हैं?

उत्तर- बिलकुल, आप पता कर लीजिये यहां जिस प्रकार का माहौल है, 90 प्रतिशत लोग बीजेपी को चाहते है।

प्रश्न - उत्तराखंड जैसा छोटा राज्य, हर बार बदलाव करता है एक बार बीजेपी, एक बार कांग्रेस लाता है ?

उत्तर- मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद पूरे देश के इतिहास बदल रहे हैं , ये कोई बड़ी बात नहीं है। इस बार ये इतिहास भी बदलेगा।

--आईएएनएस

आरजेएस

Share this story