टेक फॉग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा : डेरेक ओ ब्रायन

टेक फॉग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा : डेरेक ओ ब्रायन
टेक फॉग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा : डेरेक ओ ब्रायन नई दिल्ली, 10 जनवरी (आईएएनएस)। टेक फॉग एप को लेकर बढ़ते विवाद के बीच टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने गृह मामलों की संसदीय स्थायी समिति को पत्र लिखकर इसे राष्ट्रीय सुरक्षा और नागरिकों की गोपनीयता के लिए एक खतरा करार दिया है।

सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने गृह मामलों की संसदीय स्थायी समिति के सदस्य के नाते सोमवार को ये पत्र लिखकर टेक फॉग एप पर चर्चा के लिए एक बैठक बुलाने की मांग की है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा की टेक फॉग एप के जरिए सोशल मीडिया के ट्रेंड्स में हेरफेर की जा रही है। ब्रायन ने टेक फॉग एप को राष्ट्रीय सुरक्षा और नागरिकों की गोपनीयता के लिए एक खतरा बताया है। टीएमसी सांसद ने कांग्रेस नेता और पैनल प्रमुख आनंद शर्मा को बैठक के लिए यह दूसरा पत्र लिखा है।

सांसद ने कहा कि एक न्यूज रिपोर्ट में दावा किया गया है कि बीजेपी के आईटी सेल से जुड़े लोग इनएक्टिव व्हाट्सएप अकाउंट के जरिए लोगों को मैसेज भेजते थे और सोशल मीडिया ट्रेंड्स को अपने हिसाब से कंट्रोल करते थे। यह सब टेक फॉग एप की मदद से ही किया जाता रहा। इतना ही नहीं टेक फॉग एप के जरिए लोगों को स्पाइवेयर वाले मैसेज भेजे गए और उनके अकाउंट या फोन को हैक किया गया। इस एप के जरिए उन व्हाट्सएप नंबर से भी मैसेज भेजे गए जो बंद हो चुके थे। रिपोर्ट से पता चलता है कि टेक फॉग एप व्हाट्सएप ग्रुप या किसी निजी नंबर पर ऑटोमेटिक मैसेज भेजने में सक्षम है।

ऐप की एक अन्य विशेषता है मौजूदा समाचार लेखों और उनके लिंक को संशोधित करना है, नकली समाचार लेखों को सच्चे लोगों की तरह स्टाइल करना है। इसी तरह की परिष्कृत प्रौद्योगिकियां कंपनियों द्वारा बनाई गई हैं जैसे ओपन अल और सेल्सफोर्स, जिनके पास आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में विशेषज्ञता है, एआई मॉडल द्वारा जंक न्यूज के वास्तविक निर्माण और व्हाट्सएप समूहों के नेटवर्क द्वारा प्रसार की अनुमति देता है।

उन्होंने कहा यह एप्लिकेशन सोशल मीडिया स्पेस में गलत सूचनाओं और फर्जी खबरों से भर सकता है, व्यक्तिगत नागरिकों को गुमराह कर सकता है और राजनीतिक कथाओं में हेरफेर कर सकता है।

डेरेक ओ ब्रायन ने कहा, टेक फॉग एप राष्ट्रीय सुरक्षा, अभिव्यक्ति और स्वतंत्र मीडिया के लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए खतरा है। इसके अलावा नागरिकों की गोपनीयता और सुरक्षा के लिए भी यह खतरा है। इसलिए मैं संसदीय स्थायी समिति की बैठक बुलाने का अनुरोध करता हूं।

--आईएएनएस

पीटीके/एएनएम

Share this story