ट्रेन में मानव तस्करी पर रोक लगाने के लिए आरपीएफ और एवीए ने किया समझौता

ट्रेन में मानव तस्करी पर रोक लगाने के लिए आरपीएफ और एवीए ने किया समझौता
ट्रेन में मानव तस्करी पर रोक लगाने के लिए आरपीएफ और एवीए ने किया समझौता नई दिल्ली, 6 मई (आईएएनएस)। मानव तस्करी पर रोक लगाने के लिए रेलवे सुरक्षा बल ने रेलवे को एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन के साथ एक समझौता किया है जिसके अनुसार दोनों संगठन अब मिलकर काम करेंगे।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने तस्करी मुक्त राष्ट्र के लिए एसोसिएशन फॉर वॉलंटरी एक्शन (एवीए) के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। दरअसल भारतीय रेल देश के लिए प्राथमिक ट्रांसपोर्टर है और इसलिए मानव तस्करों के लिए परिवहन का एक प्रमुख मार्ग है। रेलवे स्टेशनों और ट्रेनों में तैनात आरपीएफ कर्मियों को पीड़ित के गंतव्य तक पहुंचने और शोषण शुरू होने से पहले तस्करी को रोकने के लिए रणनीतिक रूप से तैनात किया जाता है।

इसके मद्देनजर देश को तस्करी मुक्त बनाने के एक साझा लक्ष्य के साथ मिलकर काम करने की ²ष्टि से, आरपीएफ डीजी संजय चंदर ने इस संबंध में कैलाश सत्यार्थी की उपस्थिति में कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन (केएससीएफ) की सीईओ रजनी सिब्बल के साथ बीते माह अप्रैल में विस्तृत विचार-विमर्श शुरू किया था। जिसके बाद शुक्रवार को समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के साथ विचार-विमर्श को आगे बढ़ाया गया है, जिसमें आरपीएफ और एवीए (बचपन बचाओ आंदोलन के रूप में भी जाना जाता है) दोनों ने सूचना साझा करने, मानव तस्करी के खिलाफ काम करने के लिए आरपीएफ कर्मियों और रेलवे कर्मचारियों की क्षमता बनाने, संवेदनशीलता बढ़ाने के लिए मिलकर काम करने का संकल्प लिया।

मानव तस्करी के मामलों की जागरूकता पैदा करने और पहचान व पता लगाने में दोनों संगठन एक दूसरे की मदद करेंगे। रेलवे के अनुसार समझौता के तहत दोनों संगठनो की एक संयुक्त कार्रवाई निश्चित रूप से देश भर में आरपीएफ द्वारा शुरू किए गए ऑपरेशन एएएचटी (मानव तस्करी के खिलाफ कार्रवाई) के पैमाने, पहुंच और प्रभावशीलता को बढ़ाएगी।

रेलवे सुरक्षा बल को रेलवे संपत्ति, यात्री क्षेत्र और यात्रियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। ऑपरेशन नन्हे फरिश्ते के तहत 2018 से अब तक 50,000 से अधिक बच्चों को बचाया गया है। आरपीएफ ने देशभर में 740 से अधिक स्थानों पर मानव तस्करी रोधी इकाइयों (एएचटीयू) की स्थापना की है, इस क्षेत्र में अन्य एजेंसियों के समन्वय में मानव तस्करी के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

वहीं स्वैच्छिक कार्रवाई संघ, जिसे बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) के रूप में भी जाना जाता है, कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन से जुड़ा है, जिसकी स्थापना 1980 में नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के नेतृत्व में हुई। ये संगठन कमजोर और शोषित बच्चों को मुक्त और पुनर्वास करता है और अत्याचारों के लिए जिम्मेदार लोगों पर मुकदमा चलाने में मदद करता है।

ये साझेदारी तीन महत्वपूर्ण पहलुओं पर केंद्रित है: प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण, संवेदीकरण और जागरूकता अभियान और छापे और बचाव सहायता।

संयुक्त बयान के अनुसार, बीबीए विभिन्न स्टेशनों पर काम कर रहे 750 मानव तस्करी रोधी इकाइयों (एएचटीयू) और अन्य रेलवे कर्मचारियों के लिए आरपीएफ कर्मियों के लिए प्रशिक्षण और जागरूकता कार्यशाला आयोजित करने के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करेगा।

यात्रियों को संवेदनशील बनाने और सूचित करने और अपराधियों के बीच प्रतिरोध पैदा करने के लिए, बीबीए ऑडियो-विजुअल सामग्री भी प्रदान करेगा, जिसे वीडियो क्लिप के रूप में प्रदर्शित किया जा सकता है या ट्रेनों या रेलवे स्टेशनों पर ध्वनि संदेशों के रूप में घोषित किया जा सकता है।

इसमें छापे और बचाव साझेदारी में संभावित पीड़ितों की पहचान करने के लिए रेलवे कर्मियों को प्रशिक्षण देना शामिल है। बयान में कहा गया है कि बीबीए और उसके सहयोगी, साइबर सेल, राज्य पुलिस और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों की सूचना पर आरपीएफ तुरंत कार्रवाई करेगा।

इस मसले पर बचपन बचाओ आंदोलन की सीईओ रजनी सेखरी सिब्बल ने कहा, हमें रेलवे सुरक्षा बल से जुड़े होने पर बेहद गर्व है और यह हमारे देश में बच्चों को तस्करी से निपटने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। बीबीए ने महामारी के दौरान तस्करी किए गए 10,000 से अधिक बच्चों को बचाया है, और अधिकांश रेलवे स्टेशनों से थे। हम भविष्य में आरपीएफ का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

--आईएएनएस

पीटीके/एएनएम

Share this story