डब्ल्यूबीएसएससी घोटाला: पार्थ ने खुद को बताया साजिश का शिकार, सदमे में अर्पिता

डब्ल्यूबीएसएससी घोटाला: पार्थ ने खुद को बताया साजिश का शिकार, सदमे में अर्पिता
डब्ल्यूबीएसएससी घोटाला: पार्थ ने खुद को बताया साजिश का शिकार, सदमे में अर्पिता कोलकाता, 29 जुलाई (आईएएनएस)। करोड़ों रुपये के पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (डब्ल्यूबीएसएससी) घोटाले के आरोपी पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को शुक्रवार को यहां ईएसआई अस्पताल लाया गया।

उन्हें ईडी अधिकारी नियमित चिकित्सा जांच के लिए अस्पताल लेकर पहुंचे।

दोनों में से अर्पिता मुखर्जी को सबसे पहले अस्पताल लाया गया। जैसे ही ईडी का वाहन उन्हें लेकर अस्पताल परिसर पहुंचा, वह फूट-फूट कर रोने लगी। उन्होंने वाहन से बाहर आने से भी इनकार कर दिया और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और साथ में केंद्रीय सशस्त्र बलों की महिला कर्मचारियों को उन्हें बाहर खींचकर अस्पताल की इमारत में ले जाना पड़ा। अर्पिता मुखर्जी का व्यवहार देखते हुए स्पष्ट तौर पर कहा जा सकता है कि वह मामले में घिरने के बाद सदमें में हैं और इस बीच उन्होंने प्रतीक्षारत मीडियाकर्मियों से एक शब्द भी नहीं कहा।

उन्हें इमारत के अंदर ले जाने के तुरंत बाद, पार्थ चटर्जी को लेकर ईडी का एक अन्य वाहन अस्पताल परिसर पहुंचा। लेकिन मुखर्जी के विपरीत, उन्होंने किसी भी भावनात्मक ²श्य का सहारा नहीं लिया और ईडी कर्मचारियों द्वारा धकेले गए व्हीलचेयर पर अस्पताल की इमारत में जाते समय, उन्होंने मीडिया को सिर्फ वन-लाइनर (एक लाइन में) जवाब देते हुए कहा, मैं साजिश का शिकार हूं।

हालांकि, उनके द्वारा एक लाइन का दिया गया जवाब राजनीतिक हलकों की तीखी प्रतिक्रियाओं को भड़काने के लिए काफी था।

चटर्जी के इस वन-लाइनर का मजाक उड़ाते हुए, राज्य तृणमूल कांग्रेस के महासचिव और पार्टी प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि ऐसे मामलों में स्वाभाविक प्रतिक्रिया होती - मैं निर्दोष हूं।

घोष ने कहा, हालांकि, अगर पार्थ चटर्जी वास्तव में सोचते हैं कि वह साजिश का शिकार हैं, तो उन्हें अदालत में इसे साबित करना चाहिए।

बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पार्टी सांसद दिलीप घोष ने कहा कि यह अजीब है कि पूरे डब्ल्यूबीएसएससी साजिश में एक मुख्य आरोपी रो रहा है और दावा कर रहा है कि वह साजिश का शिकार है। घोष ने कहा, अर्पिता मुखर्जी के लिए मैं केवल इतना कह सकता हूं कि अगर वह वास्तव में पछता रहीं हैं, तो उन्हें इस घोटाले के बारे में जो कुछ भी पता है, उसे ईडी और सीबीआई को स्पष्ट रूप से बताना चाहिए।

माकपा की केंद्रीय समिति के सदस्य और पश्चिम बंगाल विधानसभा में वामपंथी विधायक दलों के पूर्व नेता सुजान चक्रवर्ती ने कहा कि वास्तविक साजिश तो उन हजारों योग्य उम्मीदवारों के खिलाफ हुई है।

कांग्रेस सांसद और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि पार्थ चटर्जी की साजिश का सिद्धांत एक अप्रत्यक्ष स्वीकार है कि वह इस पूरे घोटाले में अकेले नहीं हैं। उन्होंने कहास यह सिर्फ ट्रेलर है और फिल्म अभी शुरू होनी है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Share this story