डूटा चुनाव: दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक दे रहे हैं एक दूसरे को कड़ी टक्कर

डूटा चुनाव: दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक दे रहे हैं एक दूसरे को कड़ी टक्कर
डूटा चुनाव: दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक दे रहे हैं एक दूसरे को कड़ी टक्कर दिल्ली, 22 नवंबर (आईएएनएस)। दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ यानी डूटा के चुनाव होने जा रहे हैं। यह चुनाव दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षकों की सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण चयनित संस्था के लिए हो रहे हैं। विश्वविद्यालय के अनेक शिक्षक संगठन इन चुनावों को लेकर मैदान में है। भाजपा, कांग्रेस और लेफ्ट समर्थित उम्मीदवार चुनाव लड़ते रहे हैं। हालांकि इस बार आम आदमी पार्टी समर्थित उम्मीदवार भी चुनाव लड़ रहे हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (डूटा) का वर्ष 2021-2023 का यह चुनाव 26 नवम्बर को होना है। चुनाव डूटा में अध्यक्ष पद व 15 एग्जीक्यूटिव सदस्यों के पदों के लिए है। डूटा एग्जीक्यूटिव में जिन शिक्षक संगठनों ने अपने उम्मीदवारों को उतारा है उनमें पहली बार आम आदमी पार्टी के शिक्षक संगठन से डॉ. हंसराज सुमन ,भाजपा समर्थित शिक्षक संघ एनडीटीएफ से डॉ. हरेंद्र कुमार सिंह, डॉ. कमलेश कुमार रघुवंशी ,डॉ.महेंद्र मीणा , डॉ.लुके कुमारी खन्ना , डॉ. चमन सिंह हैं ।

वामपंथी विचारधारा वाले शिक्षक संगठन डीटीएफ से डॉ. नंदिता नारायण , डॉ. जितेंद्र मीणा , डॉ. रुद्राशिस चक्रवर्ती , डॉ.वी.एस. दीक्षित , शिक्षक संगठन एएडी से डॉ.अमित सिंह डॉ. अंजू जैन ,डॉ. जैनेन्द्र कुमार, डॉ. आनंद प्रकाश हैं ।

कांग्रेस समर्थित इंडियन नेशनल टीचर्स कांग्रेस (इंटेक) डॉ.प्रदीप कुमार, वहीं इंटेक ( आई ) डॉ.उदयबीर सिंह, डॉ.मेघराज, समाजवादी शिक्षक मंच से डॉ. शशिशेखर सिंह, कॉमन टीचर्स फ्रंट से डॉ. सुनील कुमार मांडीवाल, यूनिवर्सिटी टीचर्स फ्रंट से सुरेंद्र सिंह, एसजीटीएफ से डॉ.श्याम कुमार व स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में डॉ. संत प्रकाश सिंह हैं।

अध्यक्ष पद के लिए चार उम्मीदवार मैदान में है। इनमें एनडीटीएफ के प्रो.अजय कुमार भागी ( दयालसिंह कॉलेज ) डीटीएफ से डॉ.आभादेव हबीब ( मिरांडा हाउस ) एएडी ने डॉ. प्रेमचंद को उतारा है। वहीं तदर्थ शिक्षकों ने डॉ. शबाना आजमी ( जाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज ) को अपना उम्मीदवार बनाया है ।

एन डी टी एफ अध्यक्ष व डूटा चुनाव में अध्यक्ष पद के उम्मीदवार प्रोफेसर अजय कुमार भागी ने बताया कि दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रोमोशन के बाद आगे नियमितीकरण हमारी पहली प्राथमिकता होगी। डॉ भागी ने ईडब्ल्यूएस के नए पदों के सृजन की दिशा में संकल्पबद्ध होकर कार्य करने की घोषणा भी की।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story