तमिलनाडु कांग्रेस प्रमुख ने आरएन रवि को प्रदेश का राज्यपाल बनाने की आलोचना की

तमिलनाडु कांग्रेस प्रमुख ने आरएन रवि को प्रदेश का राज्यपाल बनाने की आलोचना की
तमिलनाडु कांग्रेस प्रमुख ने आरएन रवि को प्रदेश का राज्यपाल बनाने की आलोचना की चेन्नई, 12 सितम्बर (आईएएनएस)। तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी (टीएनसीसी) के अध्यक्ष के.एस. अलागिरी ने आर.एन. रवि को राज्य के नए राज्यपाल बनाने का विरोध किया है।

उन्होंने कहा कि नियुक्ति संदिग्ध है जैसे किरण बेदी को पुडुचेरी में उपराज्यपाल के रूप में बनाया गया था। उ्नके मुताबिक, केंद्र सरकार रवि का उपयोग करके तमिलनाडु में कुछ शरारत की योजना बना रही है।

के.एस. अलागिरी ने आईएएनएस से कहा, तमिलनाडु के नए राज्यपाल के रूप में आरएनरवि की नियुक्ति संदिग्ध है। केंद्र सरकार को उनकी पोस्टिंग में कुछ एजेंडा लगता है। अगर उन्होंने तमिलनाडु के लोगों के हितों के खिलाफ प्रदर्शन किया, तो कांग्रेस पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करेगी।

आर.एन. रवि आईपीएस (सेवानिवृत्त) इंटेलिजेंस ब्यूरो के पूर्व संयुक्त निदेशक हैं और मोदी सरकार के एक विश्वसनीय अधिकारी रहे हैं। वह एनएससीआईएन (मुविया गुट) सहित नागा विद्रोही नेताओं के साथ शांति वार्ता के लिए वार्ताकार रहे हैं और नागालैंड के राज्यपाल के रूप में कार्यरत रहे हैं।

नगालैंड के वातार्कार के साथ-साथ राज्यपाल के रूप में सेवा करते हुए रवि के अचानक परिवर्तन ने द्रमुक और उसके सहयोगियों के बीच संदेह पैदा कर दिया है, जबकि मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने रवि की तमिलनाडु के राज्यपाल के रूप में नियुक्ति का स्वागत किया, इसके खिलाफ अलागिरी सामने आए हैं।

अलागिरी ने कहा, तमिलनाडु में बीजेपी की भारी हार हुई है और उस पार्टी के ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए, वे उन राज्यों में कुछ शरारत करेंगे जहां वे बुरी तरह हार गए थे। हमें यकीन नहीं है लेकिन मुझे रवि की तमिलनाडु के राज्यपाल के रूप में पोस्टिंग में कुछ उद्देश्य पर संदेह है।

उन्होंने कहा कि द्रमुक सरकार पारदर्शी तरीके से काम कर रही है और रवि की पोस्टिंग में मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की मंशा पर संदेह है।

कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि पार्टी तमिलनाडु के नए राज्यपाल को पुडुचेरी में किरण बेदी की तरह तमिलनाडु सरकार के कामकाज में हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं देगी।

--आईएएनएस

एसएस/आरजेएस

Share this story