ताइवान को लेकर अमेरिका ने चीन को चेताया

ताइवान को लेकर अमेरिका ने चीन को चेताया
ताइवान को लेकर अमेरिका ने चीन को चेताया नई दिल्ली, 5 अक्टूबर (आईएएनएस)। द हिल की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन का प्रशासन ताइवान के खिलाफ चीन के बढ़ते कदमों को लेकर चेतावनी दे रहा है।

चीनी युद्धक विमानों द्वारा लगभग चार दिनों के दौरान लगभग 150 बार हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करने के बाद ताइवान के शीर्ष ताइवानी, और कुछ अमेरिकी, अधिकारी सैन्य टकराव को लेकर चिंतित है।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने कहा कि हम बीजिंग से ताइवान के खिलाफ अपने सैन्य, राजनयिक और आर्थिक दबाव और जबरदस्ती को रोकने का आग्रह करते हैं, और ताइवान जलडमरूमध्य में शांति और स्थिरता में हमारा स्थायी हित है। इसलिए हम पर्याप्त आत्मरक्षा क्षमता बनाए रखने में ताइवान की सहायता करना जारी रखेंगे।

चीनी नागरिक युद्ध के बाद 1949 में चीन की राष्ट्रवादी सरकार के वहां से भाग जाने के बाद से अमेरिका का द्वीप के साथ एक अनूठा संबंध है, जो सैन्य और अन्य प्रकार की सहायता प्रदान करता है।

द हिल न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका बीजिंग के साथ समझौतों के चलते ताइपे के साथ आधिकारिक संबंध बनाने से पीछे हट गया है।

ताइवान खुद को चीनी लोगों की वैध सरकार मानता है, जबकि बीजिंग इसकि एक बुरे क्षेत्र के रूप में आलोचना करता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि ताइपे और बीजिंग के बीच तालमेल का दौर चला है, लेकिन चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने सैन्य हस्तक्षेप के जरिए फिर से एकीकरण की धमकी दी है।

बीजिंग ने अमेरिका पर आंतरिक चीनी मामलों में दखल देने का आरोप लगाते हुए ताइपे के वाशिंगटन के समर्थन पर भी आपत्ति जताई है।

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने सोमवार को बाइडेन प्रशासन द्वारा जारी चेतावनियों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, ताइवान चीन का है और अमेरिका गैर-जिम्मेदाराना टिप्पणी करने की स्थिति में नहीं है।

साकी ने सोमवार को ताइवान के लिए अमेरिका की प्रतिबद्धता को रॉक सॉलिड बताया और कहा कि अमेरिकी अधिकारियों ने ताइवान के प्रति चीन के व्यवहार से संबंधित प्रशासन की चिंताओं के बारे में निजी और सार्वजनिक रूप से स्पष्ट किया है।

--आईएएनएस

एमएसबी/एएनएम

Share this story