तेलंगाना के बागी कांग्रेस विधायक पर पार्टी का कड़ा रुख

तेलंगाना के बागी कांग्रेस विधायक पर पार्टी का कड़ा रुख
तेलंगाना के बागी कांग्रेस विधायक पर पार्टी का कड़ा रुख हैजराबाद, 28 जुलाई (आईएएनएस)। कांग्रेस नेतृत्व ने स्पष्ट कर दिया है कि तेलंगाना के विधायक कोमातीरेड्डी राजगोपाल रेड्डी को यह तह करना है कि वो पार्टी में बने रहना चाहते हैं या पार्टी छोड़ना चाहते हैं।

बागी विधायक ने पार्टी और नेतृत्व के खिलाफ टिप्पणी की थी। इसके बाद पार्टी ने फैसला किया अगर वह पार्टी में रहेंगे तो उन्हें उचित सम्मान मिलेगा, लेकिन अगर वह पार्टी छोड़ते हैं तो संगठन उन्हें (उपचुनाव में) हरा देगा।

राजगोपाल रेड्डी ने कुछ दिन पहले गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी जिसके बाद से उन्होंने कांग्रेस पर हमला और तेज कर दिया है।

उन्होंने कहा कि केवल भाजपा ही तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) को हरा सकती है। उन्होंने यह भी कहा था कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी को अगर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) बुलाती है तो पेश होना चाहिए।

इसके बाद पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने बुधवार रात नई दिल्ली में पार्टी के प्रदेश नेताओं के साथ इस मुद्दे पर बैठक की। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार, तेलंगाना के पार्टी प्रभारी मनिकम टैगोर, तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी (टीपीसीसी) के अध्यक्ष ए. रेवंत रेड्डी, कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता मल्लू भट्टी विक्रमार्क और सांसद उत्तम कुमार रेड्डी ने बैठक में हिस्सा लिया।

यह तय किया गया कि अगर राजगोपाल रेड्डी कांग्रेस में वापस रहना चाहते हैं तो उन्हें उचित सम्मान मिलेगा लेकिन अगर वह पार्टी छोड़ना चाहते हैं तो उन्हें हराने के लिए सभी लोग कदम उठाएंगे।

हालांकि विधायक का पार्टी पर तीखा हमला करना जारी है। लेकिन उनके भाई कोमातीरेड्डी वेंकट रेड्डी पार्टी से सांसद हैं। इसलिए इस बात को ध्यान में रखा जा रहा है कि नेतृत्व इस मुद्दे को सावधानी से संभाले।

पार्टी ने बागी विधायक से मिलने और उन्हें शांत करने के लिए सीएलपी लीडर को भी भेजा था। बैठक सोमवार को तीन घंटे से अधिक चली लेकिन राजगोपाल रेड्डी के बागी सुर कायम हैं। बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए, बागी विधायक ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के पास कोई नेता नहीं है जो तेलंगाना को राज्य का दर्जा दिलाने के लिए लड़े।

उन्होंने कहा कि आपराधिक मामलों का सामना करने वालों को पार्टी में अहम पद दिए गए हैं। विधायक ने कहा कि यह सच है कि राज्य में भाजपा मजबूत होती जा रही है।

राजगोपाल ने पहले संकेत दिया था कि वह जल्द ही भाजपा में शामिल हो जाएंगे।

मुनुगोड़े निर्वाचन क्षेत्र से तेलंगाना विधानसभा के सदस्य ने कहा कि केवल भाजपा ही सत्तारूढ़ टीआरएस को हरा सकती है। उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा कि उन्हें लगता है कि दूसरी पार्टी में जाने का वक्त आ गया है।

कांग्रेस विधायक ने कहा कि मुनुगोड़े के लोग चाहें तो इस क्षेत्र में उपचुनाव होगा।

विधायक ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने कुछ गलत फैसले लिए जिससे पार्टी कमजोर हुई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी टीआरएस को टक्कर देने की स्थिति में नहीं है।

तेलंगाना कांग्रेस प्रमुख ए. रेवंत रेड्डी का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि जो लोग जेल गए थे, उनके अधीन वह काम नहीं कर सकते।

राजगोपाल रेड्डी और उनके भाई कोमाटिरेड्डी वेंकट रेड्डी ने पिछले साल पार्टी प्रमुख के रूप में रेवंत रेड्डी की नियुक्ति की खुले तौर पर आलोचना की थी।

--आईएएनएस

एसकेपी

Share this story